शनिवार, 2 अक्तूबर 2010

28 फ़ोटो- मैं जेद्दाह,रियाद,दुबई, रस-अल-खेमा घूम आया

image image
अरब भूभाग के 80% क्षेत्रफल वाला देश है साउदी अरब, इस देश के पश्चिम में, लाल सागर तट पर बसा है जेद्दाह.     जेद्दाह से मक्का 80 कि.मी. व मदीना 300 कि.मी. की दूरी पर हैं.  जबकि इसकी राजधानी रियाद, पूर्वोत्तर में है (बाएं). रियाद से दुबई की उड़ान डेढ़ घंटे की है. रस-अल-खेमा, दुबई से 1 घंटे की सड़क-दूरी पर संयुक्त अरब अमीरात का एक राज्य है. यह फारस की खाड़ी के लगभग मुहाने पर स्थित है (दाएं)..

from Hotel Trident-Jeddah Hotel Trident-Jeddah
होटल ट्राइडेंट से जेद्दाह यूं दिखाई देता है (बाएं). जबकि होटल  शहर से ज़्यादा अच्छा दिखता है. जेद्दाह को कोई बहुत सुंदर शहर नहीं कहा जा सकता. साउदी अरब में स्त्रियां केवल बुर्के में बाहर निकल सकती हैं, चाहे उनका धर्म कुछ भी हो. उन्हें कोई वाहन चलाने की आज्ञा भी नहीं हैं..शापिंग माल में मर्द अकेले केवल दोपहर को ही जा सकते हैं. कहीं भी भीड़ ग़ैरकानूनी है. पहचान-पत्र हमेंशा साथ रखना ज़रूरी है. यहां धार्मिक पुलिस गश्त लगाती रहती है. यहां न तो सिनेमा हाल हैं न सार्वजनिक पार्क…(फिर भी लोग यहां रहते हैं…)

Jeddah-3 Jeddah
क्या ये चित्र आपको भारत के ही किसी शहर के नहीं लगते ! जेद्दाह ऐसा ही दिखाई देता है. सड़के खुली है पर भीड़ ज़्यादा नहीं.

image
तरबूज़ की नक्काशी. यहां कुछ भारतीय युवकों द्वारा शुरू किये गए एक रेस्टोरेंट में यह सुदर कलाकारी देखने को मिली. दोनों शहरों में ग़ज़ब की गर्मी पड़ती है. यहां सेब का जूस पुदीना, माल्टा व अन्य फलों के साथ मिला कर दिया जाता है जिसे ‘साउदी शैम्पेन’ कहा जाता है. क्योंकि नशे ग़ैरक़ानूनी हैं. रिश्वतखोरी यहां भी चलती है.

Jeddah-6 Jeddah- National Day 23.9.2010
जेद्दाह के समुद्री बैक-वाटर में लगा फ़व्वारा एकमात्र जगह है जहां शाम को कुछ परिवार आ जाते हैं (बाएं).  23 सितम्बर को ‘राष्ट्रीय दिवस’ था. सब जगह छुट्टी का दिन. दीवारों पर शासकों के चित्र (दाएं). . दोनों ही शहरों में यातायात अनुशासित नहीं है. कोई भी, कहीं से भी सर्राट घुस सकता है, ठीक भारतीय शहरों की ही तरह.

Jeddah Indian School- Mushaira
जेद्दाह में हर साल एक मुशायरा भी होता है जो सारी रात चलता है. इस मुशायरे का आयोजन भारतीय करते हैं. साउदी अरब में लगभग 20 लाख भारतीय हैं. इनमें से अधिकांश (70-80%) वे हैं जो ब्लू-कालर वर्कर कहलाते हैं.
 
Jeddah Indian School- Mushaira -1Jeddah Indian School- Mushaira outside
मुशायरा शुरू होने से पहले ही हाल खचाखच भरने लगता है.(बाएं). यह मुशायरा ‘इंडियन स्कूल’ के सभागार में आयोजित होता है. सभागार भर जाने के बाद लोग स्कूल के अहाते में बाहर बड़े-बड़े स्क्रीन पर मुशायरे का आनंद लेते हैं यहां खाने-पीने के स्टाल भी लगे रहते हैं (दाएं). 
‘इंडियन स्कूल’ में 15,000 विद्यार्थी हैं.

Mcdonnald at Jeddah
जेद्दाह में मैक्डोनाल्ड भी मिला, अरबी में लिखा यह नाम पहली बार देखा.

image image
डा.अब्दुलवाहेद हालिद अलहुमैद साउदी अरब के उप श्रम-मंत्री (बाएं). प्रिंस सत्ताम बिन अब्दुल अज़ीज़ रियाद के कार्यवाहक गवर्नर हैं (दाएं).

Riyadh-Hotel Merriot-1 Riyadh-Hotel Merriot img135
रियाद के मैरियेट्ट होटल में छत के पास लगे आग बुझाने वाले स्प्रिंक्लर के निकट एक चिन्ह बना पाया कि इस पर हैंगर न टांगें (बाएं व मध्य). लोग वहां भी हैंगर टांग सकते हैं !!!. ट्रैफ़िक लाइट के खंभे के पेट में भी एक्स्ट्रा लाइट लगी मिली. अद्भुत ! (दाएं). बाद में, ऐसा ही दुबई में भी देखने को मिला.

Riyadh-1 Riyadh-Ministry of Interior
रियाद में इमारतें जेद्दाह से कुछ अधिक भव्य हैं (बाएं). दाएं चित्र में, गृह मंत्रालय की सुदर इमारत, कुछ साल पहले इसके मेन गेट पर एक आतंकवादी ने बारूद से भरी कार घुसा कर उड़ा दी थी. तब से यहां कहीं पुख्ता नाकेबंदी की गई है.

Dubai to Ras al-Khaimah Dubai to Ras al-Khaimah-1
दुबई से रस-अल-खेमा के लिए निकलते ही सड़क के दोनों ओर  रेत ही रेत दिखाई देने लगता है.

Ras al-Khaimah-Hill for cement
रस-अल-खेमा एक सोया सा शहरनुमा राज्य है जो कुछ साल पहले तक एकदम वीरान लगता था. यहां पहुंचने पर पहली बार पहाड़ दिखाई देता है. लेकिन इसे तोड़ कर लगातार सीमेंट बनाया जा रहा है इसलिए कुछ साल में यह पहाड़ अदृश्य हो जाएगा. यहां सीमेंट के अतिरिक्त दवा उद्योग व समुद्री-पर्यटन दूसरे दो बड़े उद्योग हैं. यहां दुबई की ही तरह तेल नाममात्र को ही है इसलिए औद्योगिक गतिविधियां यहां मुख्यधारा में हैं.

 Ras al-Khaimah-evening Ras al-Khaimah-5
रस-अल-खेमा की एक अलसाई सी धीरे-धीरे ढलती हुई शाम. यहां लगभग डेढ़ लाख भारतीय रहते हैं जो कुल जनसंख्या का 50%  हैं. यहां कई भारतीय कंपनियां कार्यरत हैं.

image
शेख़ साउद बिन सक्र अल क़ासिमी क्राउन-प्रिंस व उप शासक हैं. भारतीयों के लिए इनके दिल में विशेष स्थान है. इनके मंत्री मंडल में एक महिला मंत्री भी  हैं जो कई बार भारत भी आई हैं.

Ras al-Khaimah-address-4 Ras al-Khaimah-with crown prince-5
अजीब सा लगता है जब कोई आपसे बात कर रहा हो और आप खाने में मशगूल हों. पर आजकल यह भी खूब चलन में है.

Hotel Hilton-Ras al-Khaimah
रस-अल-खेमा के हिल्टन होटल में मुझे पहली बार यूं खड़े होने वाले चाकू मिले. वाह…

image
image
image
विदेशी एअरलाइन ने खाने का मीनू हिन्दी में पढ़ने को दिया तो बहुत अच्छा लगा.
और अंत में……हवाई यात्रा के दौरान यदि आप सोना चाहें तो (दाएं ऊपर) दिये स्टिकर में से कोई भी एक अपनी सीट के निर्देशित स्थान पर चिपका दें (दाएं नीचे). स्टिकरों में तीन अलग-अलग निर्देश हैं – (1) मत जगाओ, (2) खाऊंगा…जगा लेना, (3) इंपोर्टेड माल का शुदाई हूं…बेचने आओ तो जगाना मत भूलना.
000000

22 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया ..... अच्छा यात्रा विवरण ...पर कोई कार्टून नहीं ...
    काम कि चीज है जरुर पढ़े .... और हाँ एक टिपण्णी अवश्य कर दे ...
    http://chorikablog.blogspot.com/2010/10/94.html

    जवाब देंहटाएं
  2. यहां के मुस्लिमों को एक बार एक साल के लिये अवश्य जेद्दाह जाना चाहिये..

    जवाब देंहटाएं
  3. वाह ! विदेशी भूमि का लाजवाब वर्णन, लगा कि मैं खुद आपके साथ साथ घूम रहा हूँ ! आपने वे बारीकियां बतायीं जो कि केवल वहां ही देखने को मिलती हैं बहुत से यात्री अपने विवरण में यह भूल जाते हैं ! मुझे जगाने के लिए आपका अहसान मंद हूँ काजल भाई !

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत अच्छा लगा, लेकिन मुझे बहुत डर लगता हे इन देशो मे घुमने से, मेरे बहुत से मित्र दुबई मे रहते है, ओर बहुत अच्छी कम्पनी के मालिक है, लेकिन फ़िर भी उन की बातो मे कही कही डर लगता है , जेसे आप ने लिखा कि यहां बुर्का सब के लिये है, युरोप मै आप अपने मन की बात कर सकते है, अगर कोई स्थानिया युरोपिया आप के साथ गलत बोलता है तो आप उस की शिकायत कर सकते है, लेकिन इन अरब देशो मै यह सब नही, वहां वो अपने ही देशवासी की पहले सुनते है,
    चित्र बहुत सुंदर लगे, ओर हेरान हुं कि इतने भारतिया वहां रहते है, धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  5. अच्छा लगा इन दोनों देशो के बारे में इतनी बारीकी से जान कर लेकिन कोई कार्टून नहीं होने के कारण कुछ खाली सा लगा !

    जवाब देंहटाएं
  6. अच्छा संस्मरण ! ...वैसे आपने सीट पर कौन सा स्टिकर लगाया :)

    जवाब देंहटाएं
  7. अरे वाह!
    कार्टून की जगह सुन्दर चित्रों वाला आलेख!
    --
    दो अक्टूबर को जन्मे,
    दो भारत भाग्य विधाता।
    लालबहादुर-गांधी जी से,
    था जन-गण का नाता।।
    इनके चरणों में श्रद्धा से,
    मेरा मस्तक झुक जाता।।

    जवाब देंहटाएं
  8. @ बंटी चोर व @ सोनी गर्ग जी,
    हां कार्टून तो होना चाहिये :) लेकिन ये पोस्ट ठीक वैसी ही है कि जैसी कभी -कभी नहाने का जी न करे :)

    @ सतीश सक्सेना जी
    हम लोग यात्री कहां होते हैं, हम तो ब्लागर होते हैं :-)

    @ राज भाटिय़ा जी,
    दुबई तो खाड़ी का यूरोप हैं. यहां हालात कहीं बेहतर हैं. यहां महिलाएं आमतौर से कारें चलाती मिलेंगी. बल्कि हमें दुबई एअरपोर्ट पर एक महिला PRO ही ने अटेंड किया. यहां अब महिलाएं गुलाबी छत वाली टैक्सी भी चलाने लगी हैं, हालांकि अभी वे केवल परिवार व महिला सवारियां ही लेती हैं. ...अरबियों ने आज जितना रास्ता आज तय किया, यह भी काफी है उनके लिए.

    @ भाई ali जी,
    जाहिर है, मैं स्टिकर यूं ही चिपका कर बर्बाद करने के बजाय साथ उठा लाया...ताकि स्कैन कर पोस्ट में लगाया जा सके :-))

    @ प्रवीण जी, भाई भारतीय नागरिक व शास्त्री जी आपका भी हार्दिक विनम्र आभार.

    जवाब देंहटाएं
  9. आपने तो घर बैठे घुमा दिया, आनंद आगया इतने सुंदर चित्रों सहित इस यात्रा वृतांत को पढकर. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  10. गज़ब की पोस्ट!

    जेद्दाह को कोई बहुत सुंदर शहर नहीं कहा जा सकता. साउदी अरब में स्त्रियां केवल बुर्के में बाहर निकल सकती हैं, चाहे उनका धर्म कुछ भी हो. उन्हें कोई वाहन चलाने की आज्ञा भी नहीं हैं..शापिंग माल में मर्द अकेले केवल दोपहर को ही जा सकते हैं. कहीं भी भीड़ ग़ैरकानूनी है. पहचान-पत्र हमेंशा साथ रखना ज़रूरी है. यहां धार्मिक पुलिस गश्त लगाती रहती है. यहां न तो सिनेमा हाल हैं न सार्वजनिक पार्क…(फिर भी लोग यहां रहते हैं…)

    पापी पेट का सवाल है।

    जवाब देंहटाएं
  11. नयनाभिराम चित्र वीथि- लगता है उधर है कोई दिलरुबा ..बार बार उधर का ही रुख करते हैं :)

    जवाब देंहटाएं
  12. दिलचस्प विवरण ।
    ऐसे माहौल में लोग जाने कैसे रहते हैं ।
    अच्छी जानकारियां मिली । आभार ।

    जवाब देंहटाएं
  13. एक कार्टूनिस्ट की निगाह से किसी शहर को देखने का मज़ा हे अलग है । कृपया इस यात्रा पर विस्तार से भी लिखें ।

    जवाब देंहटाएं
  14. गजब के वृतांत के लिए आभार...

    जय हिंद...

    जवाब देंहटाएं
  15. काजल भाई, ये स्टीकर पर दिया गया तीसरा निर्देश अद्भुत है. वाकई सच है या आपने यूं ही दिल्लगी की है?

    जवाब देंहटाएं
  16. @ निशांत मिश्र - Nishant Mishra ji,
    वास्तव में ही कुछ एयरलाइंस में, उड़ान के दौरान ड्यूटी-फ्री चीज़ें बिक्री के लिए उपलब्ध रहती हैं जिनमें आमतौर से घड़ियाँ, परफ्यूम, पर्स और गले की चैन बगैरा होती हैं.
    :)

    जवाब देंहटाएं
  17. सुन्दर

    अति सुन्दर पोस्ट !

    जवाब देंहटाएं
  18. काजल भाई क्या चक्कर है कभी आप लीबिया घुमते (घुमाते) है कभी दुबई कभी साउदी अरबिया और अब जेद्दाह और रियाद, घुमाने के लिए शुक्रिया पर एक सवाल..
    आप कांर्टूनिस्ट है या फिर......??? (बताइए)

    जवाब देंहटाएं
  19. काजल भाई जब आप इतना घुमा ही रहे तो कृपया करके एक बार मिस्र (इजिप्त और काहिरा) भी घुमा दीजिये., और अगर साथ में वहां से हमारे लिए कुछ ले आयें तो आपका घणा-घणा आभार मानेंगे.

    जवाब देंहटाएं
  20. अरे वाह, मजा आ गया यह खबर सुनकर। बधाई स्वीकारें इस शानदार यात्रा के लिए।
    ................
    …ब्लॉग चर्चा में आप सादर आमंत्रित हैं।

    जवाब देंहटाएं
  21. खूबसूरत चित्रों की झांकी और बेहतरीन जानकारी ..बहुत अच्छा लगा पढ़ना.

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin