मंगलवार, 12 अक्तूबर 2010

कार्टून:- हज़ारों साल नर्गिस अपनी बेनूरी पे रोती है ...

24 टिप्‍पणियां:

  1. पापा क्या बतायें बेटा....:)

    जवाब देंहटाएं
  2. हा हा हा ! दिल्ली में तो स्क्वेर फुट ही बड़ा होता है ।

    जवाब देंहटाएं
  3. कई मायने हैं इस कार्टून के।
    जानकारी का अभाव भी,
    और जगह जगह का फ़र्क भी।
    बहुत सटीक।

    आज बहुत दिन के बाद आपका ब्लॉग खुल पाया है मेरे कम्प्यूटर पर।

    जवाब देंहटाएं
  4. दिन ज्यादा बूरे नहीं हुए है. यह नहीं पूछा, डैडी पिता किसे कहते है?

    जवाब देंहटाएं
  5. अपकी यह पोस्ट अच्छी लगी।
    तीन गो बुरबक! (थ्री इडियट्स!)-2 पर टिप्पणी के लिए आभार!

    जवाब देंहटाएं
  6. बच्चे को बच्चों जैसी जानकारी

    जवाब देंहटाएं
  7. कान्वेन्टिया पापा भला क्या जानें :)

    जवाब देंहटाएं
  8. हा हा, ढाई, पौने दो भी ऐसे ही होने वाले है अब.

    जवाब देंहटाएं
  9. यही हाल है आज कल के बच्चों का...हिंदी में २० से आगे की गिनती भी नहीं बता पाते ..

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत ही अच्छा व्यंग ...


    .

    www.srijanshikhar.blogspot.com पर " क्योँ जिँदा हो रावण "

    जवाब देंहटाएं
  11. बे 'मन' से टिपिया रहा हूं !


    वैसे भी बीघे के साथ मन...सेर और छटांक भी विदा हो लिए हैं तो पापा को भी अपडेट होना होगा :)

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin