रविवार, 17 अक्तूबर 2010

कार्टून:- रावण के बाक़ी मुंहों का जुगाड़ भी हो गया...


18 टिप्‍पणियां:

  1. काजल कुमार जी हर बार आपका वजट ऐसे ही काम पड़ता रहे और एक दिन रावड की जगह कोई नेता ही लगा दे

    जवाब देंहटाएं
  2. हा हा हा ! रावण के चेहरों की क्या कमी है यहाँ ।

    जवाब देंहटाएं
  3. आज ही दहन होगा ना इस पुतले का ...?!बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    सर्वस्वरूपे सर्वेशे सर्वशक्तिसमन्विते।
    भयेभ्यस्त्राहि नो देवि दुर्गे देवि नमोsस्तु ते॥
    विजयादशमी के पावन अवसर पर आपको और आपके परिवार के सभी सदस्यों को हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!

    काव्यशास्त्र

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया है.... आपको दशहरे की शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
  5. Ha,ha! Is duniyaan me to karodon chehare mil jayenge Ravan ke liye!

    जवाब देंहटाएं
  6. तब तो दशहरे के पहले ही आग लगा दें।

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति. विजयदशमी की शुभकामनाएं.

    जवाब देंहटाएं
  8. असत्य पर सत्य की विजय के प्रतीक
    विजयादशमी पर्व की शुभकामनाएँ!

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत खुब जी
    विजयादशमी की बहुत बहुत बधाई

    जवाब देंहटाएं
  10. ये तो हद हो गई इतनें सारे रावण एक साथ :)

    जवाब देंहटाएं
  11. काजल जी,
    विजया दशमी की आपको हार्दिक बधाई /
    सदा की तरह आपका ये कार्टून भी ढेर सारी खसूसियतो से भरा है /
    मेरी आपसे दरखास्त है कि देश की बढती आबादी पर भी अपना निशाना साधे क्योकि ये वो मसला है जिसपर हरकोई खुर्राटे भर रहा दिखता है वो चाहे जनता हो या सरकार सभी मौन है , उदास है और निराश है /
    thanks

    जवाब देंहटाएं
  12. हा हा !! बेहतरीन. अगर ये आज के रावण भी इसी रावण के साथ भस्म हो जाए तो त्रस्त जनता को कुछ तो राहत मिले.

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin