मंगलवार, 27 जुलाई 2010

कार्टून:- रे ओ मुसाफ़िर देख, तेरी गठरी में छेद...सखेद


20 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया !
    [वैसे,भारत की टीम के हार के पूरे आसार हैं]
    [साइड बार में बारिश का लाईव दृश्य भी बहुत अच्छा लगाया है आप ने.]

    जवाब देंहटाएं
  2. अजी पिट कौन रहा है ये या हम ??

    जवाब देंहटाएं
  3. घर के शेर बाहर में ढेर ! शिकायत उससे जो किसी और की म्याऊं है :)

    जवाब देंहटाएं
  4. अब "सर जी" भला इसमें क्या कर सकते हैं :)

    जवाब देंहटाएं
  5. गंदी बात!! घर बुलाकर ऐसा नहीं करना चाहिये.

    जवाब देंहटाएं
  6. ये क्यों भूल गए की नम्बर एक की पायदान पर आने के लिए आपने भी तो इन्हें घर बुला कर पीटा था. अब ये आपको वहाँ से उतारने के लिए अपने घर बुला कर वैसा ही सम्मान ब्याज सहित वापस दे रहे है.

    जवाब देंहटाएं
  7. रोजमर्रा की बहुत साधरण बातों की तह में जाकर कुछ मन को गुदगुदाने वाली चीज ढूढ लाना, यही तो व्यंग्य है. बधाई काजल.

    जवाब देंहटाएं
  8. अबे पगडी वाले..... इस को पीटना नही, धुनाई करना कहते है

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin