शुक्रवार, 2 जुलाई 2010

कार्टून:- हिन्दी ब्लागरों की कमाई का रास्ता खुल गया


27 टिप्‍पणियां:

  1. प्रलयंकारी /मारक /हाहाकारी /गज़ब /गज़ब/गज़ब

    जवाब देंहटाएं
  2. हा हा!! खर्चा बचा याने कमाई!!

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत खूब ... यह तरीका भी अच्छा है

    जवाब देंहटाएं
  4. होटल के खर्चे का जुगाड तो बता दिया...अब किराए भाड़े और रास्ते के चना-चबैना पर भी कुछ हो जाए

    जवाब देंहटाएं
  5. ये आइडिया तो हमें भी पसंद है ।
    आजमाएंगे भी ।

    जवाब देंहटाएं
  6. मैं कल सुबह सुबह ही ट्रक से लिफ़्ट लेकर पहुँच रहा हूँ आपके शहर. रेलवे स्टेशन पर लेने आ जाइयो... :)

    कार्टूनीगिरी हमेशा की तरह लाजवाब.

    जवाब देंहटाएं
  7. अगली ब्लॉगर मीट कब और कहाँ ? ज़रा जल्दी से बताइये ना ?

    जवाब देंहटाएं
  8. ये सिर पर बिस्तरे का बोझ भी काहे उठाये घूम रहा है...जिनके यहाँ जाएगा, वो क्या चटाई पर सुलाएंगें :)

    जवाब देंहटाएं
  9. हमें भी बताना भाई इस माह जबलपुर कैट और अगले माह सुप्रीम कोर्ट दिल्‍ली में काम है कोई ब्‍लॉगर मीट हो रहा होगा तो हमारी भी कमाई हो जावेगी, क्‍लाईन्‍ट से स्‍टार होटल में स्‍टे का पईसा लेगें.

    :)

    जवाब देंहटाएं
  10. अरे जबरदस्त रहा ये तो ...हंस हंस के पागल हो रहा हूँ में :)

    जवाब देंहटाएं
  11. चलिये अब आप ने अच्छा जुगाड बताया, लेकिन हम तो कार वाले ब्लांगर के ठहरेगे, बाकी घुमने का खर्च भी बचे ना.... अजी आप का यह कार्टून देख कर तो पेट मै बल पड गये हंसते हंसते, बहुत सुंदर

    जवाब देंहटाएं
  12. खोपड़ी घुमाऊ आइडिया दिया है सर जी...प्रलय दूर नहीं....हा हा हा हा

    जवाब देंहटाएं
  13. बढ़िया सर जी.. पर ये अर्ज है कि ब्लॉग कार्टून से बाहर निकालिए.. और भी ग़म हैं दुनिया में..

    जवाब देंहटाएं
  14. ब्लॉगर मीट से कुछ ज़्यादा ही खफा लगते हैं आप!

    निर्मला जी ने बिलकुल ठीक लिखा 'इटज़ टू मच'

    दीपक मशाल की तर्ज़ पर अर्ज़ है कि 'ब्लॉग सम्बंधित कार्टून से बाहर निकालिए.. और भी ग़म हैं दुनिया में..'

    जवाब देंहटाएं
  15. एक कमेंट कट पेस्ट करता हूँ....

    प्रलयंकारी /मारक /हाहाकारी /गज़ब /गज़ब/गज़ब

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin