शुक्रवार, 16 जुलाई 2010

कार्टून:- वाह री बरखा तेरे खेल निराले


14 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब. देश की कहने भर की सड़के गर्मी में पिघल जाती है, सर्दी में जम जाती है और बारिश में नदी बन जाती है ताकि लोगो को एक ही जगह हर तरह का अनुभव हो सके :-)

    जवाब देंहटाएं
  2. ये बरखा भी आये तो मुसीबत और न आये तो मुसीबत।

    जवाब देंहटाएं
  3. पोर्टेबल नावें अच्छा व्यवसाय है।

    जवाब देंहटाएं
  4. यहां छाता-सह-नाव या फिर नाव-सह-छाता जैसे उद्योग की संभावनाओं पर विचार किया जा सकता है :)

    जवाब देंहटाएं
  5. बरखा से कहीं अधिक तो मयून्सीपैल्टी के खेल निराले हैं :)

    जवाब देंहटाएं
  6. हाल ही की एक घंटे की दिल्ली की बारिश के बाद हुए हाल के बाद अब ऐसे मशवरे मान लेने चाहिए.

    जवाब देंहटाएं
  7. अजी दिल्ली मै रहते हो क्या??

    जवाब देंहटाएं
  8. बाल सारे उड़ गये लेकिन अक्ल नहीं आई..छाता ले कर भला कोई निकलता है मानसून में.. :)

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin