गुरुवार, 25 अक्तूबर 2012

कार्टून:- फि‍र वोट देना मुझे, प्‍लीज़


13 टिप्‍पणियां:

  1. लोहा लोहे को काटता है, जहर को जहर. वैसे ही कई सारे छोटे दुखों को एक बड़ा दुःख काट देता है. साधु-साधु.

    जवाब देंहटाएं
  2. काश चुनाव में ये मूर्ख ताऊ एक पव्वे और कंबल के बदले वोट इन्हें ना दे.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  3. हम्म ...पर ये वोट मांगने के लिए बोलेंगे क्या?

    जवाब देंहटाएं
  4. सही है .....एक बार फिर से..सब कुछ भूला कर भीख मांगने को तैयार है सबके सब :))))

    जवाब देंहटाएं
  5. काजल कुमार जी आपका पार्टी विशेष पर आक्षेप विचारणीय और नाराजगी को जतलाता है
    मुझको शराब पीने दे मंदिर में बैठ के, या वो जगह बता जहाँ खुदा न हो
    कोई भी एक शानदार पार्टी का नाम आप सुझाएँ जिस पर कल आपको चुनने की ग्लानी न हो

    जवाब देंहटाएं
  6. सादर अभिवादन!
    --
    बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (27-10-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    जवाब देंहटाएं
  7. रहिमन बे नर मर चुके ,जे कहुँ माँगन जाहिं ,
    उनसे पहले बे मुये ,जिन मुख निकसत नाहिं .
    - है न बड़ी मुश्किल !

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin