मंगलवार, 23 अक्तूबर 2012

हि‍माचल यात्रा

 पूरा रास्‍ता इसी प्रकार की खुली सड़कों और मनोहारी दृश्‍यों से ओत-प्रोत है 

 दृश्‍य-2

 दृश्‍य-3

 दृश्‍य-4

 दृश्‍य-5

 रास्ते में आनंद पुर साहि‍ब गुरूद्वारा 

 हि‍माचल की  घाटि‍यां 

 दूर झुरमुट में छुपा सा एक गॉंव

एक गांव के बाजार का आम दृश्‍य जहां मेरा जाना हुआ

 दृश्‍य-2

 दृश्‍य-3, उसी बाज़ार में कैमरे की वि‍परीत दि‍शा में

इसी गांव में एक शिलालेख

शिलालेख  वाली दीवार

 सड़क कि‍नारे मकान की छत है यह 

 बरसातों के बाद सड़कों की मुरम्‍मत 

फ़सल कटाई के बाद खेत में मुझे  यह मूंगफली यूं अकेली पड़ी मि‍ली

ऐसे होती है गांवों में रामलीला, खड्ड कि‍नारे खुले में 

 घाटी में बसा एक गांव

 घुमावदार ढलानी रास्‍ते 

 यह मकड़ी का क्‍लोज़अप नहीं है, ये है ही इतनी बड़ी 

 यूं होती है स्‍याह रात. 7.30 तक तो सोने का उपक्रम प्रारम्‍भ हो लेता है

 आंगन में एक पौधे पर कुछ संतरे देख पा रहे हैं ?

मुझे घर पर, सि‍रहाने का एक कवर मि‍ला. इस पर, मेरे हाथ का छापा लेकर 
मेरी मॉं ने कभी की थी ये कढ़ाई :)

22 टिप्‍पणियां:

  1. जहाँ जनसँख्या का दबाव अधिक नहीं है, वहाँ वाकई सुन्दर छटा है. सुन्दर.

    जवाब देंहटाएं
  2. हरे भरे दृश्यों का डेरा,
    लगे हिमाचल तृप्त बसेरा।

    जवाब देंहटाएं
  3. कितना सुन्दर ,कितना मोहक ,कितना निर्मल!

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह! बेहद खुबसूरत दुनिया, बेहतरीन फोटोग्राफ्स... गाँव की याद ताज़ा हो गयी है जी....

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर दृश्य .... सबसे सुंदर सिराहने के कवर पर की गयी कढ़ाई ।

    जवाब देंहटाएं
  6. यादों के गलियारे और गाँव का सफ़र -- बहुत बढ़िया लगा . विशेषकर तकिया जिस पर मां द्वारा बनाया गया हाथ.
    सड़क के फोटोज में थोड़ी विविधता की ज़रुरत थी . फोटोग्राफी के शौक को बनाये रखिये .

    जवाब देंहटाएं
  7. काश हम भी वहाँ होते! चित्र देखकर अच्छ लगा।

    जवाब देंहटाएं
  8. उत्तर
    1. मर्जी का मालि‍क है ब्‍लॉगर.कॉम, जब चाहता है प्रति‍क्रि‍याएं स्‍पैम में भेज बैठता है :)

      हटाएं
  9. कलकत्ता की दुर्गा पूजा - ब्लॉग बुलेटिन पूरी ब्लॉग बुलेटिन टीम की ओर से आप सब को दुर्गा पूजा की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें ! आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    जवाब देंहटाएं
  10. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  11. बेहतरीन अभिव्यक्ति, बहुत खूब .....आभार

    जवाब देंहटाएं
  12. लगता है आप हमीरपुर के आसपास के हैं. पहाड़ों पर बसे गाँवों में कुछ दिन रहा जा सकता है. सुंदर फोटोग्राफ.

    जवाब देंहटाएं
  13. हिमाचल की यात्रा कराने के लिए धन्यवाद । सुन्दर फोटो

    जवाब देंहटाएं
  14. खूबसूरत चित्र साँझा करने के लिए शुक्रिया :)))

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin