मंगलवार, 2 अक्तूबर 2012

कार्टून दो अक्‍टूबर का ...


26 टिप्‍पणियां:

  1. अब तो ऐसे ही याद करते हैं हम भी।

    जवाब देंहटाएं
  2. :) अब यही पहचान है ... लोग कहते हैं न कि जो काम कोई और नहीं कर सकता वो गांधी जी करा देते हैं

    जवाब देंहटाएं
  3. श्रद्धा और सम्मान का क्षरण समाज को दिशाहीन कर देता है . अतः यह सदैव सुरक्षित रहना चाहिए .

    जवाब देंहटाएं
  4. जय हो नोट वाले बाबाजी की और जय हो उनके बड्डे की ..एक छुट्टी पक्की :)

    जवाब देंहटाएं
  5. इस मुद्दे पर एक पोस्ट लिखी थी कभी कि , गांधी जी मरकर भी किस तरह काम आते हैं आज तक , कभी नौकरी पाने में / कभी ठेके हासिल करने में वगैरह वगैरह वगैरह !

    जवाब देंहटाएं
  6. हर बच्चे को आज के दिन हज़ार का नोट मिलना ही चाहिए. राष्ट्रपिता के बड्डे के नाम पर कुछ तो हो. खुशी हो तो पूरी हो. बढ़िया कार्टून.

    जवाब देंहटाएं
  7. कितनी कम आयु में ही बच्चे गाँधी जी को पहचानने लगते है है कोई मुकाबला उनका |

    जवाब देंहटाएं
  8. सही तो है ....नोट वाले बाबा जी :)))

    जवाब देंहटाएं
  9. जय हो बाबा गांधी की.
    जन्म दिन की शुभकामनाएँ.

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin