Wednesday, September 12, 2012

कार्टून :- ब्‍लॉगरों की इस जमात से मि‍ले !!!


33 comments:

  1. काजल भाई का सिक्सर

    ReplyDelete
  2. ...भला इसमें बुराई क्या है ?

    ReplyDelete
  3. सास-ससुर भी ब्लॉगर हों तो सोने पे सुहागा.. शादी की अगली सुबह ही फोटो-वोटो के साथ दो-चार पोस्ट तो ठेल ही देंगे...

    ReplyDelete
  4. सपना बुरा नहीं

    ReplyDelete
  5. मुझे तो इस कार्टून में ब्लैक एंड व्हाईट पिक्चर से ईस्टमैन कलर पिक्चर जैसा फर्क दिख रहा है :)

    ReplyDelete
  6. हम उस परिवार का सम्मान करेंगे :))

    ReplyDelete
  7. हा हा हा .........मजेदार !

    ReplyDelete
  8. हा हा हा ......काश हमारी भी शादी के समय ब्लोगिंग शुरू हो चुकी होती ! अब तो ये सोचने की पात्रता ही खो चुके !!!

    ReplyDelete
  9. इसकी कोई जरुरत नहीं, सम्मानित होने के लिये थोडी सी सैटिंग पहले से ही कर के रखनी पडेगी।

    ReplyDelete
  10. अब शादियों के पहले यह पूँछा जायेगा..

    ReplyDelete
  11. कहाँ कोई पहचानता है . उसके लिए जुगाड़ का जुगाड़ होना बहुत जरूरी है | हमारा तो यही अनुभव है , क्योंकि पत्नी तो हम ब्लॉगर ही ढूंढ कर लाये थे |

    ReplyDelete
  12. ही ही ही... कोई जीएम ब्लॉगर (जीएम बैंगन नाम नहीं सुना क्या????) ढूंढना पड़ेगो अब तो... :)

    ReplyDelete
  13. सम्मान पाने के लिए ब्लोगर पत्नी की क्या जरुरत है खुद ही पूरे खानदान के नाम ब्लॉग बना दो और सब पर एक ही पोस्ट डाल दो बाकि जुगाड़ जिन्दा बाद | आप के कार्टून पर टिप्पणी कर रही हूं और डर लगा रहा है कही ब्लोगर द्रोह का मुक़दमा ना कर दे सम्मान दे ने वाले :)

    ReplyDelete
  14. मजेदार कार्टून सर.

    ReplyDelete
  15. बहुत आगे तक की सोची है... :)

    ReplyDelete
  16. आपका कार्टून देखकर एक पोस्ट लिखने की प्रेरणा मिली है। उस पोस्ट में आपका कार्टून भी लगा दिया है।
    देखिए-
    बीवी का सदुपयोग करता है बड़ा ब्लॉगर Nice Plan

    ReplyDelete
  17. ब्लॉगर एम बी बी एस -मियाँ बीबी बच्चा सहित! :-)

    ReplyDelete
  18. hahahhahahahahaah....सबकी बोलती बंद करने पे तुले हो काजल भाई :))))

    ReplyDelete
  19. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  20. और डोलकर करेंगे भी क्या...

    ReplyDelete
  21. बड़ी मुसीबत हो जायेगी.

    ReplyDelete
  22. anshumala ji ne vo baat kah di hai jiske liye ye cartoon banaya gaya hai. lekin kajal ji samaanit karne walo se bhi poochho ki kya sammaan de rahe hain.
    dashak ke shresth bloggar - unmai se kitno ko blogging mai 10 saal hue.
    sarvshreshta bloggar dampatti - office mai time khoob ho to khoob hi nahi bahut khoob likha hi ja sakta hai
    sarvshreshtha bal bloggar - jise blog ki spelling nahi aati vo bhi bloggar ban sakta hai.

    maine pahla blog 2005 mai dekha tha vo ek navjaat bachche ke upar mere dost shailesh mangal ka tha. usmai vo bachche ki har nayee gatvidhi ko note karte the chitra ke saath. bhasha se saaf pata chaltaa tha ki pita apne bete ke baare mai likh raha hai. yaha to prasiddhi ki aisee chaah ki khud hi likho khud hi dhindhora peeto aur khud hi samman ka jugaad karo.

    ReplyDelete
    Replies
    1. ye anshumala urf pangamala befaltu ke pange lete/leta hai jiska koi sirpair nahi hota?

      ye har fate me taang ghusta/ghusate hai, baad me haai tauba karata/karti hai?

      Delete

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin