Saturday, November 19, 2011

कार्टून :- अहा ठंडे-ठंडे फ़िक्सिंग के फंडे


13 comments:

  1. साधु साधु ! वे वर्षों तक मौन व्रत रख पाये :)

    ReplyDelete
  2. पता नहीं मुँह खोलें तो क्या गंध निकले।

    ReplyDelete
  3. बिल्कुल फिक्स कार्टून! :)

    ReplyDelete
  4. मर्ज़ी है । वैसे आरोप तो १५ साल बाद भी लगाये जाने की सुविधा है । हा हा हा !

    ReplyDelete
  5. :) बाद में बोलने से क्या फायदा ..पहले ही कह दो ..

    ReplyDelete
  6. बने रहने के लिए ये भी आईडिया बुरा नहीं :-)

    ReplyDelete
  7. मज़ेदार !

    पंद्रह की हो गयी है, बला की हसीन है,
    Fixing पे 'काम्बली' को अभी तक यकीन है.

    Message मिल रहा है हवाओं से 'Ball' को,
    'पैसों' से खेलती अब 'रनों की मशीन' है.

    'प्लेयर' को देर से सही आया है होश तो,
    'बोर्ड' अपना, कुंभ्क्रनीय निंद्रा में लीन है.
    http://aatm-manthan.com

    ReplyDelete
  8. पंद्रह की हो गयी है, बला की हसीन है,
    Fixing पे 'काम्बली' को अभी तक यकीन है.

    Message मिल रहा है हवाओं से 'Ball' को,
    'पैसों' से खेलती अब 'रनों की मशीन' है.

    'प्लेयर' को देर से सही आया है होश तो,
    'बोर्ड' अपना, कुंभ्क्रनीय निंद्रा में लीन है.
    http://aatm-manthan.com

    ReplyDelete
  9. हा हा! सन्नाट!!

    ReplyDelete

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin