Monday, November 7, 2011

कार्टून:- मेरी छोड़ो, मेरी तो बात ही कुछ और है


17 comments:

  1. बहुत सही!
    चर्चा मंच पर कल मंगलवार को इसे भी ले लिया है!

    ReplyDelete
  2. ख्याल बुरा नहीं है :)

    ReplyDelete
  3. यही ठीक रहेगा

    ReplyDelete
  4. एक साथ पढ़ना भी हो जायेगा।

    ReplyDelete
  5. हाँ सबको आराम हो जायेगा ।

    ReplyDelete
  6. मौके(के फायदे ) की बात!

    ReplyDelete
  7. किताब का नाम होना चाहिए, ''अन्‍ना-‍दिग्विजय संवाद''।

    ReplyDelete
  8. किताब तो दूसरे लिखेंगे, अभी तो इन्हें खिताब दिए जा रहे हैं :)

    ReplyDelete
  9. हाँ, यही ठीक रहेगा! बल्कि उसे थीसिस कहकर पीएचडी भी कर लें तो बाम की बाम और झंडू के दाम वाला मुहावरा भी सच हो जाएगा

    ReplyDelete
  10. ...बाम का बाम और झंडू के दाम...
    हा हा हा
    अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  11. भावी पुस्तक भारतीय अज्ञानपीठ पुरस्कार के लिये एडवांस में नामित!

    ReplyDelete
  12. उसे पढ़ेगा कौन, कॉंग्रेस के कार्यकर्ताओं को ही झेलनी पड़ेगी।

    ReplyDelete

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin