शुक्रवार, 4 मार्च 2011

कार्टून:- मैं चाहे जहां करूं... मेरी उंग्गली...


22 टिप्‍पणियां:

  1. थोमस की तो पुंगी बज गयी. अब सरकार की बारी है जो अभी भी गलती मानने को तैयार नहीं है. सब राज-काज है,

    जवाब देंहटाएं
  2. कुछ तो चाहिये शोर मचाने के लिये।

    जवाब देंहटाएं
  3. :):)...शोर ही सुन कर रह जाते हैं ..परिणाम कुछ नहीं निकलता ...ढाक के वही तीन पात

    जवाब देंहटाएं
  4. जब सरकार को शर्म आएगी तब ना |

    जवाब देंहटाएं
  5. इन दिनों विपक्ष का काम बहुत आसान हो गया है। सत्तानशीनों की कारगुजारियां स्वतः जनता के सामने आ रही हैं।

    जवाब देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  7. मुझे मालूम है ये जहां भी उंगली करेगा वो हमेशा गलत जगह ही होगी.:)

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  8. बजाने दिजिए काजल भाई,, इनलांेगों की पुंगी आवाज नहीं करती... पर करारा यह कि मैं चाहे जो करू मेरी उंगली.............आभार।

    जवाब देंहटाएं
  9. भला इनकी उंगली पर हमें क्यों आपत्ति होगी ;)

    जवाब देंहटाएं
  10. It's best post. I liked it.
    http://www.hindublog.co.in/

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin