रविवार, 27 मार्च 2011

कार्टून:- तमसो अम्मा ज्योतिर्गुम्मा, अय्यो जी अब चुम्मा चुम्मा


31 टिप्‍पणियां:

  1. कार्टून का शीर्षक तो कार्टून से भी जबरदस्त है. जय हो भारतीय लोकतंत्र की.

    जवाब देंहटाएं
  2. हा हा हा हा दुष्ट! मैं भी ऐसिच हूँ सच्ची. बिल गोस्वामीजी के हाथ में पकड़ा देती हूँ.आज उन्हें ये सब बताऊंगी ..कि......मेरे प्रेरणा स्रोत कौन है? फिर बचना काजल जीईईईईईईई
    मैं तो ये भागीईईईईईईईईई

    जवाब देंहटाएं
  3. शानदार व्यंग्य है काजल जी।

    कितना सीधा और आसान कार्य?

    जवाब देंहटाएं
  4. मांगना हमारा मौलिक अधिकार है...कभी UNO से तो कभी आपस में...

    जवाब देंहटाएं
  5. Ha,ha,ha! "Tamaso ma" ke badale "tamaso amma!" Kya gazab dimaag chalata hai aapka! Aafreen!

    जवाब देंहटाएं
  6. जनता को चाहिए कि वह एडवांस ले!

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत बढ़िया.... इनके घर से क्या जाता है....?

    जवाब देंहटाएं
  8. खुद की कमाई दौलत से देना पड़ता तो मानते !

    जवाब देंहटाएं
  9. hehehehehe :)
    shandar cartoon. aur sheershak to gajab hi hai :D :D

    जवाब देंहटाएं
  10. वाकई चाय से ज्यादा केटली और कार्टून से ज्यादा हेडिंग गर्म है । शानदार... मजेदार...

    जवाब देंहटाएं
  11. जो मांगो सब मिलेगा क्योंकि आई ऍम अ मैन ऑफ ऑनेस्टी अंड इंटेग्रिटी

    जवाब देंहटाएं
  12. अरे हेडिंग को तो मै एक बार सही वाला ही समझ गई थी :))))

    कार्टून और हेडिंग दोनों मजेदार है |

    जवाब देंहटाएं
  13. शानदार व्यंग्य है काजल जी।
    बहुत अच्छा प्रयास है.... बधाई हो आपको!

    जवाब देंहटाएं
  14. जुम्मा के इसी चुम्मा से वोटर हुआ निकम्मा ,आगे देशम्मा ज्योतिर्मय से तमसो गम्मा !

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin