मंगलवार, 29 दिसंबर 2009

कार्टून:- कस्तूरी कुंडलि बसे, मृग ढूंढ़े वन माहिं...Twitter Twitter


16 टिप्‍पणियां:

  1. चांटा लगाओ बेवकूफ को!!

    यह अत्यंत हर्ष का विषय है कि आप हिंदी में सार्थक लेखन कर रहे हैं।

    हिन्दी के प्रसार एवं प्रचार में आपका योगदान सराहनीय है.

    मेरी शुभकामनाएँ आपके साथ हैं.

    नववर्ष में संकल्प लें कि आप नए लोगों को जोड़ेंगे एवं पुरानों को प्रोत्साहित करेंगे - यही हिंदी की सच्ची सेवा है।

    निवेदन है कि नए लोगों को जोड़ें एवं पुरानों को प्रोत्साहित करें - यही हिंदी की सच्ची सेवा है।

    वर्ष २०१० मे हर माह एक नया हिंदी चिट्ठा किसी नए व्यक्ति से भी शुरू करवाएँ और हिंदी चिट्ठों की संख्या बढ़ाने और विविधता प्रदान करने में योगदान करें।

    आपका साधुवाद!!

    नववर्ष की अनेक शुभकामनाएँ!

    समीर लाल
    उड़न तश्तरी

    जवाब देंहटाएं
  2. आपके ब्लाग पर पहली बार आया... बहुत कार्टून्स देखे.... अच्छा लगा... फिर आउंगा.

    जवाब देंहटाएं
  3. बेचारा आम आदमी वो क्या जाने ट्विटर ।

    जवाब देंहटाएं
  4. चाटा लगाओ
    हर्ष का विष्य सार्थक लेख्न. ये भी कार्टून टाइप हो गया. ही ही.

    जवाब देंहटाएं
  5. 'ट्विटेरियन मंत्री पर कैटिल क्लास व्यंग'
    "अदभुत"

    जवाब देंहटाएं
  6. हा-हा-हा .. और ये नालायक राहुल है कि बार-बार .... !

    जवाब देंहटाएं
  7. सही फरमाया टेक्नोसेवी मा'साब ने.

    जवाब देंहटाएं
  8. मुझे तो पहले वाला और भी अधिक अच्छा लगा.

    जवाब देंहटाएं
  9. अरे चांटे से काम नही चले तो मुर्गा बनायो

    जवाब देंहटाएं
  10. अरे चांटे से काम नही चले तो मुर्गा बनायो

    जवाब देंहटाएं
  11. हम चले थरूर जी को सब्स्क्राइब करने! :)

    जवाब देंहटाएं
  12. इसे उनकी साईट का फालोवर बनने को क्यूं नहीं कहते :)

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin