शनिवार, 26 दिसंबर 2009

कार्टून:- ये दुनिया अगर मिल भी जाए तो क्या है...


16 टिप्‍पणियां:

  1. सच में पी.एम. कार्टून केरेक्टर बन कर रह गया है :)

    जवाब देंहटाएं
  2. कठ पुतली को आप ने नया नाम दे दिया, बहुत सुंदर

    जवाब देंहटाएं
  3. यानि की प्रधानमंत्री गरीब की लुगाई हो गए ?

    जवाब देंहटाएं
  4. हालात तो इनके ऐसे ही हैं सचमुच के जीते जागते कार्टून बनके रह गए!!!

    जवाब देंहटाएं
  5. अरे भैया...
    कोई औरत जब किसी को बनाती है ...तो सिर्फ कार्टून ही बनाती है.....हा हा हा हा

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सटीक करारा व्यंग्य..... कठपुतली हो गए है सरदार जी सही तो है .....

    जवाब देंहटाएं
  7. अब ताज की कोई कीमत तो चुकानी ही पड़ेगी।

    जवाब देंहटाएं
  8. काजल जी क्यों सरदारों की बेज्ज़ती करते हैं सरे बाज़ार .....?

    और ये मयंक जी ने सुमन जी ''नीचे'' चुरा लिया देखा .....??

    आपके लिए और एक इडिया ....ब्लोगरों के कार्टून बनाने शुरु कर दीजिये .....!!

    जवाब देंहटाएं
  9. @ हरकीरत ' हीर' जी...
    सरदार सबसे ज़िंदा क़ौमों में से एक है, मेरा आशय तो केवल पी.एम. से था :)
    और मयंक जी वाली चोरी (या डकैती)तो मैंने भी शुरू कर दी है. आपके nice कमेंट के लिए धन्यवाद :)

    जवाब देंहटाएं
  10. कितनी सही बात कह दी आपने.

    जवाब देंहटाएं
  11. काश, कभी हम भी कार्टून बनाने योग्य बन पाते! :(

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin