बुधवार, 26 अगस्त 2009

कार्टून:-दर्द का गीत है..कोई गुनगुनाए कैसे..

18 टिप्‍पणियां:

  1. भाई ये तो बहुत ही बढ़िया है............
    हा हा हा हा

    जवाब देंहटाएं
  2. लगता है की पक्षी भी इनसान बनने की सोच रहे हैँ

    जवाब देंहटाएं
  3. आलस्य के कारण तो कुछ छूट सबको मिलती है काजल जी। इन्हें भी हक है।

    जवाब देंहटाएं
  4. उड़ोगी नहीं तो
    दुनिया ही उजड़ जाएगी
    मेरी
    और फिर आलस भी न कर पाओगी
    मेरी बिल्‍लो
    क्‍योंकि
    पीछे बिल्‍ला ...

    जवाब देंहटाएं
  5. हमेशा की तरह एक बार भी...अल्टीमेट!!

    जवाब देंहटाएं
  6. यह तो मनोवैज्ञानिक बात हो गई - आलस्य मानवेत्तर जीवों में जैविक फिनॉमिना है या मानसिक?
    मैने चिड़िया को बीमारी से सुस्त देखा है, आलस्य से नहीं!

    जवाब देंहटाएं
  7. वाह बहुत खूब तनेजा जी सही कह रहे हैं

    जवाब देंहटाएं
  8. आज आलस के मारे कमेन्ट करने का मन नहीं कर रहा !

    जवाब देंहटाएं
  9. हमसे भी आलस के मारे कोई नयी पोस्ट नहीं लिखी जा रही...:)

    जवाब देंहटाएं
  10. .
    .
    शुक्र मना रे पंछी कि बिल्ली को भी आज आलस छाया है...

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin