शनिवार, 15 अगस्त 2009

कार्टून:- मामू, आज़ादी माने तो !

16 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब काजल जी। सही निशाना।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    जवाब देंहटाएं
  2. एक बीज,
    ऊपर आने के लिए,
    कुछ नीचे गया ,
    ज़मीन के .


    कस के पकड़ ली मिटटी ,
    ताकि मिट्टी छोड़ उड़ सके .

    ६३ बरसा हुए आज उसे ….

    …मिट्टी से कट के कौन उड़ा ,
    देर तक ?

    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  3. Lajwab !!

    स्‍वतंत्रता दिवस की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं.

    स्वतंत्रता रूपी हमारी क्रान्ति करवटें लेती हुयी लोकचेतना की उत्ताल तरंगों से आप्लावित है।....देखें "शब्द-शिखर" पर !!

    जवाब देंहटाएं
  4. सही है जी। धर्म का क्या अचार ड़लना है!

    जवाब देंहटाएं
  5. बेधर्म होकर
    नाम
    धमेन्‍द्र रखने
    की आजादी।

    जवाब देंहटाएं
  6. सटीक और गहरा कार्टून। वैसे कुछ लोग इसका नाजायज फायदा भी उठाते है।

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत जबरदस्त.

    स्वतंत्रता दिवस की घणी रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  8. आज ६२ वर्ष बाद भी भारतवर्ष प्रलोभनो के बल पर हुए धर्म-परिवर्तनों की मार झेल रहा है. सटीक चित्रण.

    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  9. shandaar kajaljee iseeliye aap mere favorate blogeer ki list me hai

    जवाब देंहटाएं
  10. यथार्थ की कड्वी सच्चाई!बहुत खूब!

    जवाब देंहटाएं
  11. क्या बात है काजल भाई. एक दम से धो निचोड़, फटकार कर सुखा दिया अपने.
    सोनिया माई को पसंद आयेगा ये कार्टून.

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin