गुरुवार, 22 अगस्त 2013

कार्टून :- रे रज़ि‍या गुंडों में फँस गई ...


15 टिप्‍पणियां:

  1. सुरक्षा किस से? किस किस से? शानदार.

    जवाब देंहटाएं
  2. सुरक्षा की चिंता पर सुरक्षा किससे..बहुत सही।

    जवाब देंहटाएं
  3. अपनी अपनी चिंतायें हैं ! उन्हें भी उसी खाद्य सामग्री के हवाले से अपने भविष्य की चिंता है , ये बात बालक को समझा दी जाए बस ! चिंताओं का संतुलन बना रहेगा :)

    जवाब देंहटाएं
  4. बेटा , ऐसा संभव नहीं है , घुन हैं हरामखोर कही से भी घुस जायेंगे अनाज की बोरी में !

    जवाब देंहटाएं
  5. इसका हाल भी रजिया जैसा ही होना तय है.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  7. नहीं बेटा, गरीबों से खाद्य की सुरक्षा के लिए है।

    जवाब देंहटाएं
  8. बच्चे वो अपने आगे के ५ साल के खाने की सुरक्षा की बात कर रहे है ।

    जवाब देंहटाएं
  9. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल शुक्रवार (23-08-2013) को "ईश्वर तू ऐसा क्यों करता है" (शुक्रवारीय चर्चामंचःअंक-1346) पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  11. खाने की सुरक्षा, खिलाने की नहीं

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin