Tuesday, December 18, 2012

कार्टून :- सन 2052 का भारतीय क्रि‍केट


21 comments:

  1. हूँ लगता तो है!

    ReplyDelete
  2. aap ko to lagta hai Future dikhaane wala magic mirror mil gya hai ..

    ReplyDelete
  3. चु -चु -चु ....भगवान की यह दुर्दशा मुझे देखी नहीं जायेगी :)

    ReplyDelete
  4. :):) इज्ज़त से विदा हो जाएँ भगवान ।

    ReplyDelete
  5. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  6. आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा कल (19-12-12) के चर्चा मंच पर भी है । जरुर पधारें ।
    सूचनार्थ ।

    ReplyDelete
  7. सुन्दर लेखनी !!!

    ReplyDelete
  8. हम तो फिर भी नहीं सुधरेंगे।

    ReplyDelete
  9. अपने हीरो का ऐसा हस्र ! :)

    ReplyDelete
  10. आपका कुछ कार्टून अपनी सीमाओं का अतिक्रमण करता लगता है इस सन्दर्भ में , जैसे मेरा यह कमेन्ट . हम सदैव एक जैसे कहाँ रह पाते हैं.....

    ReplyDelete
  11. कार्टून एक स-शक्त माध्यम है अपनी बात कहने का .....इस कार्टून को देख ये बात सिद्ध हो जाती है .बधाई .सन्देश उन तक पहुंचे जिनके लिए है तो सार्थक भी हो जाएगा :)

    ReplyDelete
  12. काजल के कार्टून जो कह जाते हैं वह कोई कह नहीं सकता .एक खदबदाहट को वाणी दे जाते हैं .

    ReplyDelete

  13. काजल के कार्टून जो कह जाते हैं वह कोई कह नहीं सकता .एक खदबदाहट को वाणी दे जाते हैं .चित्र व्यंग्य तनाव घटाते हैं सामयिक विमर्श का खुलासा करतें हैं .

    ReplyDelete
  14. काजल भाई मुबारक मोदी की जीत .सम्वेदनाओं की पराकाष्ठा है आपने दिल्ली रैप पर व्यंग्य चित्र नहीं बनाया बनाते तो दिखाते सोनिया और शीला दिल्ली में सुरक्षित हैं कौन कहता है महिलायें

    अरक्षित हैं .

    ReplyDelete
    Replies
    1. Virendra Kumar Sharma जी, दि‍ल्‍ली की घटना के बारे में सोच कर भी सि‍हर उठता हूं. मैं इस पर कुछ भी बनाने में सक्षम नही :(

      Delete
  15. ..आज नायक लाचार हो गया है !

    ReplyDelete

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin