शनिवार, 12 अक्तूबर 2013

कार्टून :- नेताओं को तूफ़ान में छोड़ के न जाओ


9 टिप्‍पणियां:

  1. नमस्कार आपकी यह रचना कल रविवार (13-10-2013) को ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    जवाब देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (13-10-2013) आँचल में है दूध : चर्चा मंच -1397 में "मयंक का कोना" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का उपयोग किसी पत्रिका में किया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं
  3. कितना अच्छा हो जो ये 'रिले रेस' आयोजन चाहे जब भी हो बस यूंहीं चलती रहे :)

    जवाब देंहटाएं
  4. वैसे काजल भाई आप भी कमाल हो या शायद हद दर्ज़े के ज़हीन या फिर बेहद शरारती भी ! अब देखिये ना जहां से नेता गाड़ी पर चढ़ सकता था , गाड़ी ने अपनी वो टांग उचका दी है :)

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. इसे शुक्र मनाना चाहि‍ए कि‍ बस ने अभी दुलत्‍ती नहीं जमाई .... :-)

      हटाएं
  5. बहुत सुन्दर - ..अच्छे भाव और सीख के साथ
    आप सभी मित्रों को सपरिवार दशहरा की हार्दिक शुभ कामनाएं

    भ्रमर ५

    जवाब देंहटाएं
  6. राजनैतिक रिलीफ़ तो पर्याप्त मात्रा में है।

    जवाब देंहटाएं
  7. दुल्लती जम जाती तो मजा आता.:)

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin