Wednesday, July 20, 2011

कार्टून:- कोई क्या खा के करेगा हमारा मुक़ाबला…


20 comments:

  1. उनका धर्म झूँठ बोलना और मुकरना ही तो है.
    सब कुछ ये खा ही चुके हैं तो 'कोई क्या खा के करेगा इनका मुकाबला'.

    काजल भाई नई पोस्ट जारी की है.समय निकाल कर दर्शन दीजियेगा.

    ReplyDelete
  2. ये गुण सीख लेता तो बन न जाता ऐसा ही.

    ReplyDelete
  3. सही है इनका कोई क्या बिगाड़ सकता है!

    ReplyDelete
  4. अघाये और अतृप्त के बीच का अन्तर शायद यहीं से स्पष्ट होता है :)

    ReplyDelete
  5. यह कलाकारी तो केवल भारत वाले ही सिखा सकते हैं।

    ReplyDelete
  6. हां, इसमें भी हमारे नेता अव्वल हैं...
    बढ़िया कार्टून...

    ReplyDelete
  7. हमें अंग्रेज़ों ने बहुत कुछ दिया है। अब हमारा दायित्व भी तो बनता है उन्हें कुछ देना :)

    ReplyDelete
  8. बढ़िया कार्टून!
    खुदा मेहरबान, तो गधा पलवान!

    ReplyDelete
  9. वाह! रूपर्ट मर्डाक इनकी चेलाई कर ले, भाई!

    ReplyDelete
  10. ये सब नेता की योग्यता में शामिल है अब !

    ReplyDelete
  11. वोसियासत धर्म भी बेमिसाल है\

    ReplyDelete
  12. बहुत अच्छी नये प्रतीक विधान से सजी कविता इट विद्या जी .

    ReplyDelete
  13. भूलने की बीमारी न हो तो बहुत सी दूसरी बीमारियाँ हो जाएँ।

    ReplyDelete
  14. वाह बेशर्मी हाय बेशर्मी

    ReplyDelete
  15. नेता बनाम झूठ! सब से कुशल अभिनयकर्ता .

    ReplyDelete
  16. यह कटु सत्य है.

    ReplyDelete

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin