Sunday, July 10, 2011

कार्टून:- ये है मंत्रिमंडल के विस्तार का सच


24 comments:

  1. हा हा हा वैशाखी ही वैसाखी .... inhin पर आश्रित हैं .

    ReplyDelete
  2. :):) बिना बैसाखी के कुछ नहीं कर सकते ...

    ReplyDelete
  3. आप उन्हें बैसाखी पर्व भी नहीं मनाने देंगे :)

    ReplyDelete
  4. प्रिय ब्लोग्गर मित्रो
    प्रणाम,
    अब आपके लिये एक मोका है आप भेजिए अपनी कोई भी रचना जो जन्मदिन या दोस्ती पर लिखी गई हो! रचना आपकी स्वरचित होना अनिवार्य है! आपकी रचना मुझे 20 जुलाई तक मिल जानी चाहिए! इसके बाद आयी हुई रचना स्वीकार नहीं की जायेगी! आप अपनी रचना हमें "यूनिकोड" फांट में ही भेंजें! आप एक से अधिक रचना भी भेजें सकते हो! रचना के साथ आप चाहें तो अपनी फोटो, वेब लिंक(ब्लॉग लिंक), ई-मेल व नाम भी अपनी पोस्ट में लिख सकते है! प्रथम स्थान पर आने वाले रचनाकर को एक प्रमाण पत्र दिया जायेगा! रचना का चयन "स्मस हिन्दी ब्लॉग" द्वारा किया जायेगा! जो सभी को मान्य होगा!

    मेरे इस पते पर अपनी रचना भेजें sonuagra0009@gmail.com या आप मेरे ब्लॉग sms hindi मे टिप्पणि के रूप में भी अपनी रचना भेज सकते हो.

    हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई?

    नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया

    मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है! मेरा ब्लॉग का लिंक्स दे रहा हूं!

    हेल्लो दोस्तों आगामी..

    ReplyDelete
  5. एक्सचेंज आफर कमाल का है.
    वैशाखियों के बिना चलना कठिन है.
    जब अपने पैर ना हों तो वैसाखियाँ चाहियें ही.

    ReplyDelete
  6. इन्होने अपनी तरह देश को भी मजबूरन बैसाखियों के सहारे ही टिका दिया है!

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन कार्टून। लाजवाब।

    ReplyDelete
  8. बैसाखी के बिना कुछ नहीं कर सकते! वैशाखियों पर आश्रित जो हैं|

    ReplyDelete
  9. वाह!
    दोनों हाथों में बैसाखियाँ!

    ReplyDelete
  10. यह तो अलाउद्दीन का चिराग खरीदने जैसा है:)

    ReplyDelete
  11. बैसाखी ....सच कहा ....सटीक

    ReplyDelete
  12. कितना दयनीय बन्दा

    ReplyDelete
  13. कितना सच काजल भाई, काश की इसे सत्ताधीश समझ पाता। बधाई इस संवेदना के लिए।

    ReplyDelete
  14. बडा कर्रा है ये सच।

    ------
    TOP HINDI BLOGS !

    ReplyDelete
  15. Hmmmm.....kya kahen aisee halat ko?

    ReplyDelete
  16. बैसाखी तो बैसाखी है, पाँव नहीं बन पायेगी..

    ReplyDelete
  17. सरदार पर चुटकुलों का दौर फिर शुरू होने ही वाला है।

    ReplyDelete
  18. बेहतरीन कार्टून....

    ReplyDelete
  19. अब ये बैशाखी ही देश का सच है .काजल भाई .कहाँ रहे हम तुम इतने दिन ?

    ReplyDelete
  20. शायद इन्ही के आसरे कुछ समय और गुजर जाये.

    ReplyDelete
  21. ये बेचारी बैसखिया हमारे प्रधानमंत्री को क्या सहारा देंगी वो तो खुद मैडम जी के सहारे चल रही है |

    ReplyDelete
  22. बहुत बढि़या। कार्टून का मजा तभी है जब टिप्‍पणी भी उतनी ही जोरदार हो जितना कि कार्टून। आपन इस काम में सिद्धहस्‍त हैं।

    ReplyDelete
  23. जनता भी तो बैसाखी है !

    ReplyDelete

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin