रविवार, 19 जून 2011

कार्टून :- छोटी सी आशा...


22 टिप्‍पणियां:

  1. ओह...व्यंग के साथ टीस भी.

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया!
    फादर्स-डे की बहुत बहुत शुभकामनाएँ!

    जवाब देंहटाएं
  3. काजल भाई बहुत ही सार्थक मुद्दा उठाया है .हमारे महानगरों में बाल श्रमिक भी जो अपना घर छोड़ इधर भागें हैं ,जन गणना के हाशिये से बाहर है .सटीक पैनी दृष्टि के लिए बधाई .

    जवाब देंहटाएं
  4. मेरे अस्तित्व पर भी मुहर लगवा दो।

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सटीक .
    ये मुद्दा भी उपेक्षित मुद्दों में से एक है.

    जवाब देंहटाएं
  6. कुछ गड़बड़ है । हमें कार्टून दिख नहीं रहा ।

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत महत्वपूर्ण मुद्दे को छुआ है.

    जवाब देंहटाएं
  8. साहब कहेंगे इससे तो भीख ही दे देते हैं।

    जवाब देंहटाएं
  9. ये बेचारे जन मे गिने ही कब जाते हैं जो गणना हो।

    जवाब देंहटाएं
  10. सरकार के अनुसार उसने इस बार सड़क पर रह रहे लोगो की भी जनगणना कराई है इसके लिए बाकायदा रात में सड़को पर जा जा कर लोगो को गिना गया था किन्तु इसका फायदा क्या होगा संख्या के हिसाब से सरकार योजनाये बनाएगी और ज्यादा पैसा भेजेगी जो जायेगा कहा ये सभी को पता है |

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत ही दारूण, करुणामयी, टीस-भरा कार्टून.

    जवाब देंहटाएं
  12. आपने एक बहुत महत्वपूर्ण मुद्दा उठाया है।

    जवाब देंहटाएं
  13. काम हो जाएगा | पैसे लगेंगे |

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin