बुधवार, 8 दिसंबर 2010

कार्टून:- रे ब्लागर, अब अगली बारी तेरी है...


26 टिप्‍पणियां:

  1. हाथ में बन्दूक, हर कारतूत सबूत ....

    जवाब देंहटाएं
  2. वास्तव में आज निर्दोष,इमानदार,सच्चे लोगों को कभी भी अपमानित किया जा सकता है ....चोर उच्चके हर साख पर कब्ज़ा जमा चुके हैं.........लेकिन हमसबको Julian Assange के समर्थन में आगे आना चाहिए......

    जवाब देंहटाएं
  3. आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आया हूँ बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ,अच्छी रचना , बधाई ......

    जवाब देंहटाएं
  4. क्या सलाह है, इससे पहले कि विकिलीकिया पकड़े, ब्लॉग डिलीट कर दें? :)


    [आज पहली बार आपके ब्लॉग पर आया हूँ बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ,अच्छी रचना , बधाई ......]

    जवाब देंहटाएं
  5. इसीलिए ब्लोगर्स ने लिखना कम कर दिया है ?

    जवाब देंहटाएं
  6. मैं तो अब नाम भी नही लूंगा.:)

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  7. लिकियाओ और :)

    [आपके ब्लॉग पर अक्सर आता हूँ बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ,अच्छी रचना , बधाई ......]

    जवाब देंहटाएं
  8. हे राम... जल तु जला तु आई बला को टाल तु

    जवाब देंहटाएं
  9. @ अभिषेक ओझा व ज्ञानदत्त पाण्डेय जी,

    ...मुझे तो अभी तक यही लगता था कि हिन्दी ब्लागिंग bots से शायद सुरक्षित है :-)

    जवाब देंहटाएं
  10. पहले ही कहा था पहलवान को ऊँगली मत दिखा....

    जवाब देंहटाएं
  11. फांसी !!!
    इसी की कमी थी काजल भाई !

    जवाब देंहटाएं
  12. ठोकना हो तो सबूत क्या ? गवाह क्या ?

    जवाब देंहटाएं
  13. जब पे-पॉल सहित दूसरे सर्वर बंद किए जा रहे हों,तो गूगल के मुफ्त के प्लेटफार्म पर मौज उड़ा रहे ब्लॉगरों को सावधान हो ही जाना चाहिए। पर आप सुरक्षित हैं काजल भाई,डोमेन नेम जो ले रखा है!

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin