मंगलवार, 14 दिसंबर 2010

कार्टून:- लो जी फिर आया ज़माना चिट्ठियों का...


26 टिप्‍पणियां:

  1. फोन पर बात करना तो सच में खतरों का खेल है।

    जवाब देंहटाएं
  2. हम्म्म मस्त सोच है आपकी....

    जवाब देंहटाएं
  3. सही तरीका है। फोन टेप से तो बचे। लेकिन डाकिया पट गया तो????????????

    जवाब देंहटाएं
  4. अच्छा हुआ ..पुरानी विधा..इसी बहाने लौटी :) ..लोगो की सम्प्रेषण क्षमता का विकास होगा.

    जवाब देंहटाएं
  5. @निर्मला कपिला जी .....डाकिया पट तो कबूतर को काम पर लगा देंगे !

    जवाब देंहटाएं
  6. खतरा तो वहां भी हो सकता है --लेटर बम का ।

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत ही सुंदर अभिव्यक्ति.........मेरा ब्लाग"काव्य कल्पना" at http://satyamshivam95.blogspot.com/ जिस पर हर गुरुवार को रचना प्रकाशित साथ ही मेरी कविता हर सोमवार और शुक्रवार "हिन्दी साहित्य मंच" at www.hindisahityamanch.com पर प्रकाशित..........आप आये और मेरा मार्गदर्शन करे..धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  8. दुनिया गोल है ना!

    जवाब देंहटाएं
  9. bahut badhiya kartoons .maine kai dekh liye hai dobara aana huaa to aur bhi dekhoongi .

    जवाब देंहटाएं
  10. मतलब मजबूरी का नाम ओसामा .....

    जवाब देंहटाएं
  11. जी हां! मैने भी दस पोस्ट कार्ड खरीद लिये हैं। :)

    जवाब देंहटाएं
  12. इसमें क्या है ? अभी फोन टेप होते हैं फिर खत फोटो कापी होने लग जायेंगे :)

    जवाब देंहटाएं
  13. kajalji !kaartoonist yug drshtaa hotaa hai .vah samay kaa atikraman kar samay ke paar dekh letaa hai .aap bahut achchhaa kaam kar rhen hain .
    dhnya bhaag hamaare jo aap padhaare .
    veerubhai .

    जवाब देंहटाएं
  14. सही है पर हमारे गाँव के पोस्टमास्टर साहब जब बोर होते हैं तो लोगों की चिट्ठियों को भी खोल कर पढ़ जाते हैं... किसी की मजाल है जो बोल दे कि लिफाफा खुला कैसे है.. हमारे लिए तो फोन ही सही है जी..

    जवाब देंहटाएं
  15. भई ज़रा संभल के। सुना है,होशियार लोग कोई लिखित प्रमाण नहीं छोड़ते!

    जवाब देंहटाएं
  16. वाह! वाह! जरा संभल के चिठ्ठियों की राह में रोड़े बहुत हैं।
    ====================

    प्रेम पर एक सदाबहार टिप्पणी-
    ==================
    प्रेम सुपरफ्लेम है।
    मजेदार गेम है॥
    हार-जीत का इसमें
    होता न क्लेम है॥
    -डॉ० डंडा लखनवी

    जवाब देंहटाएं
  17. कबूतर ज्यादा सेफ़ रहेगें न

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin