Sunday, November 28, 2010

कार्टून:- क्या आपका ब्लाग PhD थीसिस में शामिल है?


33 comments:

  1. यह भारी ब्‍लॉगर कौन है
    पहचानिए पह‍चानिए पहचानिए

    ReplyDelete
  2. पर पी एच डी कौन कर रहा है, पता तो दें।

    ReplyDelete
  3. सुना है एक देवी जी हिंदी ब्लॉगिँग पर Ph.D कर भी रही हैं, मतलब बहुत जल्द ये सच होने वाला है। बढ़िया व्यंग्य।

    ReplyDelete
  4. क्या आपका ब्लॉग phD थीसिस में शामिल है ....


    ओह ये एग्रीगेटर कब आया , इंडली के बाद आया होगा , हमारा ब्लॉग तो सिर्फ़ चिट्ठाजगत में और इंडली में ही शामिल है ..अभी phD में अकाऊंट खोलते हैं रुकिए

    ReplyDelete
  5. मेरा तो शामिल है मगर ये नही पता कि पी एच डी कर कौन रहा है शायद केवल राम जी हैं। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  6. जरा एक लात हमारी तरफ से भी जमाईये इस नालायक को :)

    ReplyDelete
  7. हमारा ब्लॉग तो PHD थीसिस में क्या ब्लॉग चर्चाओं में भी शामिल नहीं होता :(

    ReplyDelete
  8. जबर्दस्त्त ....:) ये दिन लगता है दूर नहीं .

    ReplyDelete
  9. सही है छोड़ना मत जब तक कि अपना ब्लॉग शामिल न हो जाये

    ReplyDelete
  10. भगवन!

    आपकी जयजयकार /

    अद्भूत लीला दिखाई आपने , बांकी भला अब किसकी मईया बाग्घ बियाई जो आगे गुस्ताखी दर्ज करावे /

    जय हो !

    ReplyDelete
  11. वाह काजल जी अब तो आपके ब्लॉग को PHD थीसिस में शामिल नहीं करने की जुर्रत कोई नहीं करेगा.......!

    ReplyDelete
  12. बधाई, हिन्दी ब्लॉग शोध योग्य बन गये!
    बाकी, हिन्दी शोध का जो स्तर है, वह बहुत प्रसन्नता नहीं जगाता!

    ReplyDelete
  13. देखिये काजल भाई हम तो बेफिक्र हैं और आपको भी हो जाना चाहिए !

    मसलन हमारा "ब्लॉग उम्मतें" है उसमें से आधा तो कम से कम वो लिखेंगे ही , लिखना ही पडेगा :)

    यानि कि 'उम्मतें' छोड़ भी दें तो क्या :)

    ReplyDelete
  14. अच्छा लगा ये तरीका भी व्यंग करने का. वैसे हम तो शामिल बाजा हैं जहाँ आप वहां हम. हम तो रेवड़ियाँ भी मिल बाँट कर ही खाते हैं .

    ReplyDelete
  15. आज तो कूंडा करकै धर दिया बिचारे का.:)

    रामराम

    ReplyDelete
  16. ले बच्चू और कर ब्लागरों पर पी एच डी.... :)

    ReplyDelete
  17. मैं बंटी चोर जूठन चाटने वाला कुत्ता हूं। यह कुत्ता आप सबसे माफ़ी मंगता है कि मैने आप सबको परेशान किया। जाट पहेली बंद करवा के मुझे बहुत ग्लानि हुई है। मेरी योजना सब पहेलियों को बंद करवा कर अपनी पहेली चाल्लू करना था।

    मैं कुछ घंटे में ही अपना अगला पोस्ट लिख रहा हू कि मेरे कितने ब्लाग हैं? और कौन कौन से हैं? मैं अपने सब ब्लागों का नाम यू.आर.एल. सहित आप लोगों के सामने बता दूंगा कि मैं किस किस नाम से टिप्पणी करता हूं।

    मैं अपने किये के लिये शर्मिंदा हूं और आईंदा के लिये कसम खाता हूं कि चोरी नही करूंगा और इस ब्लाग पर अपनी सब करतूतों का सिलसिलेवार खुद ही पर्दाफ़ास करूंगा। मुझे जो भी सजा आप देंगे वो मंजूर है।

    आप सबका अपराधी

    बंटी चोर (जूठन चाटने वाला कुत्ता)

    ReplyDelete
  18. मैं बंटी चोर जूठन चाटने वाला कुत्ता हूं। यह कुत्ता आप सबसे माफ़ी मंगता है कि मैने आप सबको परेशान किया। जाट पहेली बंद करवा के मुझे बहुत ग्लानि हुई है। मेरी योजना सब पहेलियों को बंद करवा कर अपनी पहेली चाल्लू करना था।

    मैं कुछ घंटे में ही अपना अगला पोस्ट लिख रहा हू कि मेरे कितने ब्लाग हैं? और कौन कौन से हैं? मैं अपने सब ब्लागों का नाम यू.आर.एल. सहित आप लोगों के सामने बता दूंगा कि मैं किस किस नाम से टिप्पणी करता हूं।

    मैं अपने किये के लिये शर्मिंदा हूं और आईंदा के लिये कसम खाता हूं कि चोरी नही करूंगा और इस ब्लाग पर अपनी सब करतूतों का सिलसिलेवार खुद ही पर्दाफ़ास करूंगा। मुझे जो भी सजा आप देंगे वो मंजूर है।

    आप सबका अपराधी

    बंटी चोर (जूठन चाटने वाला कुत्ता)

    ReplyDelete
  19. मैं बंटी चोर जूठन चाटने वाला कुत्ता हूं। यह कुत्ता आप सबसे माफ़ी मंगता है कि मैने आप सबको परेशान किया। जाट पहेली बंद करवा के मुझे बहुत ग्लानि हुई है। मेरी योजना सब पहेलियों को बंद करवा कर अपनी पहेली चाल्लू करना था।

    मैं कुछ घंटे में ही अपना अगला पोस्ट लिख रहा हू कि मेरे कितने ब्लाग हैं? और कौन कौन से हैं? मैं अपने सब ब्लागों का नाम यू.आर.एल. सहित आप लोगों के सामने बता दूंगा कि मैं किस किस नाम से टिप्पणी करता हूं।

    मैं अपने किये के लिये शर्मिंदा हूं और आईंदा के लिये कसम खाता हूं कि चोरी नही करूंगा और इस ब्लाग पर अपनी सब करतूतों का सिलसिलेवार खुद ही पर्दाफ़ास करूंगा। मुझे जो भी सजा आप देंगे वो मंजूर है।

    आप सबका अपराधी

    बंटी चोर (जूठन चाटने वाला कुत्ता)

    ReplyDelete
  20. ब्लॉग जगत पर शोध कार्य करने वालों सावधान कहीं चूक ना कर बैठना । काजल कुमार जी को अनदेखा करने का मतलब ..........

    ReplyDelete
  21. वाह...शानदार..
    अरे प्रवीण जी, वर्धा में एक सुकन्या मिली थी न आपको? जो पीएचडी कर रही है ब्लॉगिंग पर?? हम तो सोचते है अपने ब्लॉग का नाम भेज दें उसके पास.:)

    ReplyDelete
  22. जानकारी के लिए बतला देता हूं कि इस समय हिंदी ब्‍लॉगिंग पर पीएचडी 5 देवियां और 6 देवता कर रहे हैं और जल्‍द ही एक ब्‍लॉग 'ब्‍लॉग देवता' का अवतरण होने ही वाला है, जो ब्‍लॉगिंग में पीएचडी करने के गुर सिखलाएगा और पिटने-कुटने से बचने के नायाब तरीके भी।
    छिपकलियां छिनाल नहीं होतीं, छिपती नहीं हैं, छिड़ती नहीं हैं छिपकलियां

    ReplyDelete
  23. प्रवीण जी का सवाल वाजिब है हमें भी अपना ब्लाग शामिल करवाना है

    ReplyDelete
  24. मारिये दबा के :) हमसे तो पूछा ही नहीं.

    ReplyDelete
  25. अरे यह क्या हो रहा है? पढ़े लिखे को मार रहे हो....

    ReplyDelete
  26. अरे कितना मारोगे मर ही डालोगे क्या
    dabirnews.blogspot.com

    ReplyDelete
  27. हा..हा..हा..चलिए आपकी कृपा दृष्टी ब्लॉगरों पर भी पड़ी।

    ReplyDelete

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin