गुरुवार, 25 नवंबर 2010

कार्टून:- फ़ेविकोल और एम. सील से भी बढ़िया फ़िक्सर...


14 टिप्‍पणियां:

  1. नादानजी, अगली ने ले कर पूछा है या दे कर? :) फोकट में मूँह न खोलना. व्यवसायिकता का जमाना है.

    जवाब देंहटाएं
  2. जीने की मजबूरी और साथ में लोभ लालच जो न करवाए......

    जवाब देंहटाएं
  3. जरा संभल कर...मामला गडबड है.:) प्रणाम.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  4. इस सवाल के जबाब से रेट तय करने में बड़ी मदद मिलेगी !

    जवाब देंहटाएं
  5. आपकी इस पोस्ट का लिंक कल शुक्रवार को (२६--११-- २०१० ) चर्चा मंच पर भी है ...

    http://charchamanch.blogspot.com/

    --

    जवाब देंहटाएं
  6. बढ़िया प्रस्तुति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    जवाब देंहटाएं
  7. ये अन्दर का मामला है। बच के। शुभकामनायें।

    जवाब देंहटाएं
  8. लेन देन तो लगा ही रहेगा न ।

    जवाब देंहटाएं
  9. फिक्सिंग तो हर जगह है जी।
    बढ़िया कार्टून।

    जवाब देंहटाएं
  10. कार्टून अच्छा लगा। एक पल का पागलपन पर आप सादर आमंत्रित हैं।

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin