मंगलवार, 13 अप्रैल 2010

कार्टून:- भगवान तू कुछ तो समझा कर...

25 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  2. मैं तो सिर्फ़ जनता का तुच्छ सेवक बनना चाहता हूं प्रभु. सवा पांच आने का प्रसाद हर महिने कब से चढा रहा हूं. अब तो सुने दीनानाथ.:)

    बहुते सटीक सिक्सर मारा है आज तो.

    रामराम

    जवाब देंहटाएं
  3. अत्यंत विचारपरक ...मारक कार्टून

    जवाब देंहटाएं
  4. हा..हा...हा... मज़ा आ गया.........."

    जवाब देंहटाएं
  5. Bhagwaan ke ghar der hai , andher nahi hai...

    Sabko ! naukar banakar hi chhodega Ishwar

    जवाब देंहटाएं
  6. एकदम सही कह रहा है. भगवान भी... अब क्या कहें. भगवान भला करे भगवान का.

    जवाब देंहटाएं
  7. आजकल ऊपर वाला सिर्फ निखट्टुओं की सुनता है :-)

    जवाब देंहटाएं
  8. लगा रह प्यारे। सातवें जनम में भगवान सुनेंगे तेरी प्रार्थना! :)

    जवाब देंहटाएं
  9. अगले चुनावों में खड़े हो जाना ...बन जाएँगे जनता के नौकर...सरकार का नौकर बन कर क्या करेगें!
    बढ़िया पेशकश !

    जवाब देंहटाएं
  10. सरकार का भी छोडो , बस जनता का नौकर बना दो । :)

    जवाब देंहटाएं
  11. हे भगवान मेरी भी सुन ले इसके साथ :)

    जवाब देंहटाएं
  12. वाह जी..मजेदार व्यंग....प्रस्तुति भी बेहतरीन..काजल जी बधाई

    जवाब देंहटाएं
  13. हाहाहा ..भगवान को समझना होता तो भगवान क्यों होता ,गरीब की प्रार्थना न दुनिया के भगवान समझते है न ये

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin