रविवार, 11 अप्रैल 2010

मेरी दक्षिण-कोरिया यात्रा –काजल कुमार

DSC01182
सियोल का अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा काफी सुंदर है.

DSC01183
हवाई अड्डे से जाते हुए रास्ते में एक सुंदर सुंरग.

DSC01185
दुकान पर यह चिन्ह कुछ पहचाना सा लगा.

DSC01190
यहां के शापिंग-माल रात 11-12 बजे तक खुले रहते हैं.

DSC01201
सियोल में ह्युंडई की नई i-30 कार भी दिखी.

DSC01229
विदेश में राष्ट्रीय ध्वज देखना बहुत सुहाता है.

DSC01236
सैमसंग मुख्यालय के सामने की एक इमारत.

DSC01248
ह्युंडई की हाइड्रोज़न चालित एक कंसेप्ट कार.

DSC01255
संग्राहलय में रखा एक ऐतिहासिक राजमुकुट.

DSC01260
जापानियों द्वारा लूटा गया प्रस्तरस्तूप अमरीका ने लौटाया.

DSC01262
एक भारतीय रेस्टोरेंट. सियोल में करीब 50 भारतीय रेस्टोरेंट हैं. यद्यपि भारतीय 4500 ही होंगे. कोरियाई भारतीय खाना भी पसंद करते हैं जबकि उनका परंपरागत खाना “किमची” है जो उबली सब्ज़ियों से बनता है. कोरिया में भारतीयों को आदर से देखा जाता है.

DSC01268
सियोल शहर मे एक ऐतिहासिक द्वार.

DSC01288
गियोंगजू में बक्चियों नदी के किनारे होटल से दृश्य.

DSC01291
सियोल से दूर गियोंगजू में होटल हिल्टन.

DSC01303
एक पुलिस स्टेशन. कोरिया में अपराध-दर
बहुत
कम है.

DSC01312
कोरिया खुली सड़को के लिए भी जाना जाता है.

DSC01325
एक बौद्ध विहार के द्वार पर प्रहरी की मूर्ति.

DSC01358
पहचान के लिए पर्यटक-गाइड झंडे लिए रहते हैं.

DSC01362
डोंगडेजू से हमने सियोल के लिए रेलगाड़ी ली.

DSC01368
KTX रेलगाड़ी की गति 300 कि.मी. प्रति घंटा  है.

DSC01375
ढंड से बचने के लिए होटल गार्ड का शीशमहल.

DSC01382
उत्तर कोरिया से पहले, दक्षिण कोरिया का अंतिम रेलवे स्टेशन.

DSC01385
दक्षिण कोरिया सीमा से उत्तर कोरिया का दृश्य.

DSC01391
उत्तर कोरिया के सुंरग खोदने की ख़बरें आती रहती हैं. एक प्रतिकृति.

DSC01401
सियोल के किले में प्रहरियों का प्रदर्शन.

DSC01457
लोककथा आधारित प्रस्तुति के नाट्य कलाकार.

DSC01467
ये मोटर साईकिल खाते-पीते घर के लगते हैं न.






DSC01494
जहाज में शाकाहारी खाने की गत यूं बनी.

DSC01495
जहाज़ में सोने का समय है.

DSC01425
दक्षिण कोरिया की एक नन्ही बाल कलाकार.

DSC01350
और ये मैं हूं.

22 टिप्‍पणियां:

  1. यात्रा के बारे में विस्तार से बताईये, क्यों गये, कैसे गये, जिस उद्देश्य से गये वह पूरा हुआ . और कुछ मजेदार प्रसंग भी. फोटो बहुत अच्छे हैं.

    जवाब देंहटाएं
  2. शानदार चित्र। पर केवल प्रहरी की मूर्ति है जो कार्टून के करीब लगती है! :)

    जवाब देंहटाएं
  3. चित्र सुंदर हैं, और अंतिम चित्र में आप भी बहुत सुंदर लग रहे हैं। चिरपरिचित चेहरे से अलग।

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह मंत्रमुग्ध कर देने वाले चित्र हैं. लगता है आप तो दोनो कोरियाओं की यात्रा कर आये हैं.

    आपके कैमरे की नजर से देखना काफ़ी सुखद लगा.

    और माशाअल्लाह आप तो पिछले फ़ोटो से कुछ ज्यादा ही जवान नजर आ रहे हैं? क्या कोरिया का असर है? कुछ जिनसेंग की बूटी तो नही मिल गई वहां पर?:) बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर चित्र! कोरियन और जापानियों का भारत के प्रति बहुत प्रेम है, वहीं दूसरी ओर चीन अपने नागरिकों को भारत विरोधी घुट्टी पिलाता रहता है.

    जवाब देंहटाएं
  6. सभी चित्र बेहद खूबसूरत लगे.
    कोरिया का राज मुकुट सबसे सुंदर लगा और
    ह्युंडई की हाइड्रोज़न चालित एक कंसेप्ट कार का चित्र भी.
    आभार इन सभी चित्रों का जिनसे हमें भी उस देश की झलक मिल सकी.

    जवाब देंहटाएं
  7. ..... सुन्दर ...अतिसुन्दर ...बेहद प्रसंशनीय प्रस्तुति!!!

    जवाब देंहटाएं
  8. वाह वाह वाह वाह... हर चित्र के बाद वाह!

    और आप तो खुब जम रहे हो...

    जवाब देंहटाएं
  9. दिनेश जी सही कह रहे हैं ..आपका चेहरा जरा अलग लग रहा है ..वैसे चित्र सुन्दर हैं. :-)

    जवाब देंहटाएं
  10. भारत के राष्ट्रीय चिह्न का उपयोग ZENRICO द्वारा ! सम्भवत: बौद्ध धर्म से जुड़ाव कारण हो। लेकिन क्या किसी देश के राष्ट्रीय चिह्न का व्यवसायिक उपयोग उचित है?

    जवाब देंहटाएं
  11. अच्छा लगा तस्वीरों को देखकर.

    जवाब देंहटाएं
  12. अच्छा अब बात समझ आई कि आज कल आपके कार्टून क्यों नहीं आ रहे थे...
    सभी चित्र बहुत सुन्दर...
    आपका आभार ..

    जवाब देंहटाएं
  13. @ भारतीय नागरिक - Indian Citizen
    भाई क्यों का क्या जवाब दूं :) अलबत्ता यात्रा बल्ले-बल्ले रही सब-कुछ सुखद व अविस्मृरणीय.

    @ ज्ञान जी,
    आपसे सहमत हूं कि यह पोस्ट ब्लागशीर्षक से मेल नहीं खाती...बस यूं ज़ायका बदलने के लिए ही :)

    @ दिनेश जी, ताऊ जी, संजय जी व लवली जी आपका सादर आभार.

    @ गिरिजेश राव जी
    शायद यह वैश्विक धरोहर का परिचायक है.

    @ शेखावत जी, निशांत जी, सुमन जी, अल्पना जी, उदय जी व समीर जी आप सभी का भी विनम्र आभार.

    @ संतोष जी आपका अनुमान एकदम सही है :)

    जवाब देंहटाएं
  14. फिलहाल तो आपसे ईर्ष्या हो रही है :)

    जवाब देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर चित्र लिए हैं पूरा लिखे तो और भी अच्छा लगेगा .अभी कुछ दिन पहले अलोक मेहता की किताब पढ़ी थी यही की यात्रा के विषय में ,पढ़ कर ही वहां घुमने की इच्छा हो आई थी ..:)

    जवाब देंहटाएं
  16. हम भी घूम लिए जी आपके साथ.

    जवाब देंहटाएं
  17. वाह जी वाह अच्छी सैर करवा दी आपने मुफ्त में ही.अच्छा लगा और जानकारी भी मिल गयी
    आभार

    जवाब देंहटाएं
  18. yahan baithhe baithhe hum bhi ghoom liye..good collection!!!

    जवाब देंहटाएं
  19. सुन्दर चित्र ...और ये भी पता चला कि आप मुस्कुराते हुए बहुत अच्छे दिखते हैं.......

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin