Sunday, January 8, 2012

कार्टून:- सांस लेने के लिए सवारियां खुद ज़िम्मेदार हैं


14 comments:

  1. हा हा हा ! परफेक्ट !
    हम भी आजकल हाथ जेब में डाले रहते हैं । :)

    ReplyDelete
  2. मगर बहिनजी को चुनाव बाद भी सांस लेना मुश्किल होगा :-)

    ReplyDelete
  3. हा हा हा..बहुत बढ़िया कार्टून।

    ReplyDelete
  4. सूंड से ही तो मूँढहे जा रहे हैं जी.

    ReplyDelete
  5. प्रत्याशियों को ही ढँक दे तो कैसा रहे :)

    ReplyDelete
  6. आज के जमाने में जिन्दा रहने के बहाने तो ढूढ़ने ही होंगे।

    ReplyDelete
  7. हाहाहा हाहाहा ...बढिया है

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया!
    मकर संक्रान्ति की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin