शुक्रवार, 15 जुलाई 2011

कार्टून:- आज देसी घी के दिये जलाने का दिन है...


21 टिप्‍पणियां:

  1. दिल्ली में तो अरसा हो गया। दीवाली मनानी चाहिये पटाखों और गोवर्धन पूजा सहित।

    जवाब देंहटाएं
  2. मगर अब तो देशी की जगह दियों में तेल की जगह सिर्फ आँसूँ ही नजर आते हैं!
    --
    बहुत कुछ कह दिया आपने तो इस कार्टून में!

    जवाब देंहटाएं
  3. अच्छे सवालों का कोई जवाब क्यों नहीं देता? आपकी राय मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण है| जरुर पधारें | www.akashsingh307.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  4. मुर्दों के शहर में दीवाली हा हा हा

    जवाब देंहटाएं
  5. यही हाल रहा तो ये गिनती 'घंटों' में आ जाएगी !

    जवाब देंहटाएं
  6. घी के दिये जलाने ही पड़ेंगे केवल बीस मरे है सवा करोड़ की आबादी में २० की कोई गिनती होती है क्या |

    जवाब देंहटाएं
  7. तीखा कटाक्ष करता सटीक कार्टून....

    जवाब देंहटाएं
  8. बधाई हो ....हम बम्बई वासी भी बेशर्म हैं ..उफ़ !नहीं करेगे .....

    जवाब देंहटाएं
  9. वैसे बम तो पूरा धर्मनिरपेक्ष था ..

    जवाब देंहटाएं
  10. अत्यंत सटीक और चुभता हुआ व्यंग.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  11. हां जी, देसी घी के दिए जलाने होंगे क्यों कि बिजली गुल होने वाली है:)

    जवाब देंहटाएं
  12. परफ़ार्मेंस और बढ़िया करके दिखानी हो तो X 24 x 60 x 60 करके बतायेंगे।

    जवाब देंहटाएं
  13. कटाक्ष करता कार्टून....
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं
  14. आप के पिछले सौ कार्टूनों में सब से बेहतर।

    जवाब देंहटाएं
  15. बहुत खूब काजल भाई ये मारा है बिजूके को निचोड़ के कौड़ा.बधाई .

    जवाब देंहटाएं
  16. देखते रहिये काजल भाई, धीरे धीरे ये दिनों की जगह घंटों में गिना जायेगा।

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin