शनिवार, 19 जनवरी 2013

कार्टून:-जयपुर चिंतन समारोह स्‍थल से रपट


17 टिप्‍पणियां:

  1. ...तेल क्यों बरबाद करते हो,सीधे आग में झोंक दो :-)

    जवाब देंहटाएं
  2. ये उलटा लटका वही वाला हैं न जो कल डीजल के दामों के विषय में मौन सिंह को बोल रहा था कि मेरा क्या उखाड़ लेगा ? :)

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कर रहे हैं आप. मैंने भी इस कार्टूनि‍स्‍ट पट्ठे को अभी कल ही समझाया था कि‍ मान जा, तेरे पास पत्‍ता-कटोरी के अलावा मुडी भी है. नहीं माना. और देख लो आज आ ही गई इसकी गुद्दी भी हाथ में :(

      हटाएं
    2. तेल , आग कुछ भी मत बरबाद करो
      अपने हाल पर मरने को छोड़ दो।
      अब तो हमने इसका सब कुछ निचोड़ ही लिया है
      इसमें अब बचा ही क्या है जो तेल , आग बरबाद करे ।।तेल , आग कुछ भी मत बरबाद करो
      अपने हाल पर मरने को छोड़ दो।
      अब तो हमने इसका सब कुछ निचोड़ ही लिया है
      इसमें अब बचा ही क्या है जो तेल , आग बरबाद करे ।।

      हटाएं
  3. यूँ हो झोंक दो ....जल्दी करो ..अभी बहुत हैं ???

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सटीक दिखाई है कांग्रेसियों की नौटंकी

    जवाब देंहटाएं
  5. 2014 tak kya bachega?
    gareebi / gareeb.../aam aadmi.. sab..?????...

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपकी पोस्ट के लिंक की चर्चा कल रविवार (20-01-2013) के चर्चा मंच-1130 (आप भी रस्मी टिप्पणी करते हैं...!) पर भी होगी!
    सूचनार्थ... सादर!

    जवाब देंहटाएं
  7. पहले चमरी ही छुड़ा लो भाई
    कुछ भी करो पर मुझे दर्द होता ही अब कहां है?
    झांेक दो या कच्चा ही चबा जाओ
    उफ नहीं करूंगा..

    जवाब देंहटाएं
  8. खाल इस पर बची ही कहां है? पहले ही उधेड ली थी.

    रामराम

    जवाब देंहटाएं
  9. तेल और लकड़ी भी क्यों बर्दाद करनी ....महंगाई ने पहले ही तो मार डाला है

    जवाब देंहटाएं
  10. सटीक व्यंग करार प्रहार करता है आज की व्यवस्था पर.

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin