सोमवार, 12 नवंबर 2012

कार्टून :- तुझे भी दि‍वाली मुबारक, जा क्‍या याद करेगा


19 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    दीवाली का पर्व है, सबको बाँटों प्यार।
    आतिशबाजी का नहीं, ये पावन त्यौहार।।
    लक्ष्मी और गणेश के, साथ शारदा होय।
    उनका दुनिया में कभी, बाल न बाँका होय।
    --
    आपको दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    जवाब देंहटाएं
  2. ओहो! ऐसा गिफ्ट!यही होना बाकि रहा गया है.

    आपको भी दीप पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    जवाब देंहटाएं
  3. क्या गिफ्ट है पर इसे शिफ्ट होनेमें देर नहीं लगती :-)

    जवाब देंहटाएं
  4. काजल भाई !इस कार्टून को देख मन पीड़ा से भर गया .कितना भदेस है यह चेहरा ,देखने में ऐसा लगे जैसे बिना सुइयों वाली घड़ी .और वो रुकी हुई घड़ी इनकी सरगना .क्या गत कर दी है इन लोगों ने

    हिन्दुस्तान की ,आम आदमी की ,.सचमुच चित्र व्यंग्य गहरे छीलता है .और ऊपर से तुर्रा यह -कांग्रेस का हाथ आम आदमी के साथ .और हकीकत में यह उसकी ............पे लात मारते हैं .

    जवाब देंहटाएं
  5. We cannot expect anything better than this from congress.

    जवाब देंहटाएं
  6. :)मंगलमय हो दीपों का त्यौहार... आपको व आपके समस्त परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें......

    जवाब देंहटाएं
  7. बढ़िया प्रस्तुति ... दीपावली पर्व के शुभ अवसर पर आपको और आपके परिजनों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ....

    जवाब देंहटाएं



  8. ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ
    ♥~*~दीपावली की मंगलकामनाएं !~*~♥
    ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ
    सरस्वती आशीष दें , गणपति दें वरदान
    लक्ष्मी बरसाएं कृपा, मिले स्नेह सम्मान

    **♥**♥**♥**● राजेन्द्र स्वर्णकार● **♥**♥**♥**
    ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ

    जवाब देंहटाएं
  9. आपका आक्रोश यहाँ किसी तथा कथित नेता पर न दिखकर शुद्ध रूप से आम नागरिक और कहूँ तो एक गरीब आदमी पर दिखा जो की मेरे व्यक्तिगत विचार से पूर्णतः गैर वाजिब लगा .यदि मैं कार्टून बनाता तो उस आदमी की जगह मैं खुद को डालता या फिर किसी भ्रष्ट नेता को जिसे कुछ भी कहने की मेरी औकात होती या फिर मृत्यु का भी भय नहीं होता . मैं आपके इस कार्टून को आम आदमी का अपमान मानूंगा . अभी कोई भी व्यक्ति आम आदमी से बड़ा नहीं है जो की सरकार को अपने लिए चुनता है . आप विचार करके देखें मेरी दृष्टि से आपने गरीब का अपमान किया है जो किसी भी हालत में सराहा नहीं जा सकता . बाकि तो आप स्वयं समझदार हैं .

    जवाब देंहटाएं
  10. आपका आक्रोश यहाँ किसी तथा कथित नेता पर न दिखकर शुद्ध रूप से आम नागरिक और कहूँ तो एक गरीब आदमी पर दिखा जो की मेरे व्यक्तिगत विचार से पूर्णतः गैर वाजिब लगा .यदि मैं कार्टून बनाता तो उस आदमी की जगह मैं खुद को डालता या फिर किसी भ्रष्ट नेता को जिसे कुछ भी कहने की मेरी औकात होती या फिर मृत्यु का भी भय नहीं होता . मैं आपके इस कार्टून को आम आदमी का अपमान मानूंगा . अभी कोई भी व्यक्ति आम आदमी से बड़ा नहीं है जो की सरकार को अपने लिए चुनता है . आप विचार करके देखें मेरी दृष्टि से आपने गरीब का अपमान किया है जो किसी भी हालत में सराहा नहीं जा सकता . बाकि तो आप स्वयं समझदार हैं .

    जवाब देंहटाएं
  11. सही में इससे बेहतर मुबारकबाद क्या देगा मन्नू

    जवाब देंहटाएं
  12. :-)

    रौशनी और खुशियों के पर्व "दीपावली" की ढेरों मुबारकबाद!

    जवाब देंहटाएं
  13. ***********************************************
    धन वैभव दें लक्ष्मी , सरस्वती दें ज्ञान ।
    गणपति जी संकट हरें,मिले नेह सम्मान ।।
    ***********************************************
    दीपावली पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं
    ***********************************************
    अरुण कुमार निगम एवं निगम परिवार
    ***********************************************

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin