शनिवार, 24 नवंबर 2012

कार्टून :- ज़िंदा क़ौमें ताका करती हैं यहॉं


12 टिप्‍पणियां:

  1. ....आज भी वो देश के नाम पर ही सब कुछ कर रहे हैं !

    जवाब देंहटाएं
  2. nice sir....

    सुबह मेरे दिमाग में भी आया था विचार। एक बच्‍चा अपनी मां से पूछता है, मम्‍मी देखो, नेता इतने बड़े हो गए, फिर भी छुटटी मारते हैं संसद में नही जाते, और जिसको जाना ही पड़ता है स्‍कूल

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (25-11-2012) के चर्चा मंच-1060 (क्या ब्लॉगिंग को सीरियसली लेना चाहिए) पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!

    जवाब देंहटाएं
  4. जमा जूतियाँ सैकड़ों, टूटी कुर्सी मेज ।

    माइक गाली शोर भी, रखते रहे सहेज ।

    रखते रहे सहेज, कालिमा नोट चुटकुले ।

    कितनी लानत भेज, दिखाते खुद को हलके ।

    चेले गुरु घंटाल, सरिस जो चली गोलियां ।

    नंगे भगे नवाब, पड़ी रह गई जूतियाँ ।।

    जवाब देंहटाएं
  5. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    जवाब देंहटाएं
  6. देश के लिये? क्या बात करते हैं काजल भाई आप भी!!

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin