रविवार, 18 मार्च 2012

कार्टून:- ज़ख़्म हैं कि सूखने का नाम ही नहीं ले रहे


23 टिप्‍पणियां:

  1. जरूर!
    इन्होंने हमारे लिए किया ही क्या है!

    जवाब देंहटाएं
  2. खामखयाली विशफुल थिंकिंग से पैदा जख्म हैं ये, हरे रहेंगे .मुगालते बने हुएं हैं .

    जवाब देंहटाएं
  3. क्यों नहीं क्यों नहीं :(

    जवाब देंहटाएं
  4. अभी ऐसे कई जख्म ओर बनने बाले है इनके !!

    जवाब देंहटाएं
  5. जनता को उल्लू समझना कितना खतरनाक होता है?

    जवाब देंहटाएं
  6. @ स्तरीय सलाह.....वाह :)

    मन ही मन जुवराज जी दांत पीसते कह रहे होंगे - दिग्गिया तोरे कारन :)

    जवाब देंहटाएं
  7. ना भई ना। एक निशाना चूका तो क्या हुआ,आगे मिशन 2014 भी तो है!

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत खूब

    कल 21/03/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.

    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!


    ... मुझे विश्‍वास है ...

    जवाब देंहटाएं
  9. wah sir...
    sir..uttrakhand ki raajniti ke ghatnakram pr bhi ek cartoon awashya banayega...

    जवाब देंहटाएं
  10. सही सलाह पर अमल तो होगा ही ।

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin