मंगलवार, 6 सितंबर 2011

कार्टून:- केवल फ़ेसबुक वालों के लिए...


28 टिप्‍पणियां:

  1. अम्मा पुराने जमाने की है...कुछ समझती ही नहीं....

    जवाब देंहटाएं
  2. घर घुसवा बच्चों का युग! :)

    जवाब देंहटाएं
  3. सही है,
    कल मैं एक बच्चे से पूछ रहा था कि उस की पेशियाँ कमजोर क्यों हैं?

    जवाब देंहटाएं
  4. सच है ... :) सारे दोस्त अब यहीं मिलते हैं ....

    जवाब देंहटाएं
  5. ससुरे ने बच्चों का बचपन छीन लिया. प्रतिकूल असर तो उनके शारीरिक विकास पर पड़ेगा ही.

    जवाब देंहटाएं
  6. हाँ कुछ जाने कुछ अनजाने ! जो लड़का है वो लड़का है या नहीं और जो लड़की है वो लड़की है या नहीं पता नहीं पर हम सब फेशबुक फेशबुक खेलते हैं!!!

    जवाब देंहटाएं
  7. :) लगता है अम्मा का अकाउंट नहीं है.

    जवाब देंहटाएं
  8. :):) अब तो अम्मा भी फेस बुक पर होनी चाहिए ..

    जवाब देंहटाएं
  9. isiliye lagta hai ki AMMA ko bhi facebook join karwa de...

    जवाब देंहटाएं
  10. बेटे के साथ साथ पिता को भी डांट पड़नी चाहिए .

    जवाब देंहटाएं
  11. अम्मा को भी वहीँ होना चाहिए :)

    जवाब देंहटाएं
  12. यह कड़वा सच है.चिंताजनक स्थिति.
    अब तो मोबाइल पर भी फेसबुक फ्री मिल जाता है तो कंप्यूटर/नेट पर पाबंदी भी क्या कर लेगी?

    जवाब देंहटाएं
  13. कर लो सारी दुनिया को मुट्ठी में.... घर बैठे बैठे:)

    जवाब देंहटाएं
  14. आदमी बन गया 'किताब' है अब,
    'चेहरा' उसका तो 'लेपटॉप' है अब,
    खेल अब 'उंगलियाँ' ही करती है,
    आलसी 'जिस्म' तो 'नवाब' है अब.

    http://aatm-manthan.com

    जवाब देंहटाएं
  15. सही बात कही बच्चे ने। एक ही इलाज है अम्मा को भी फेसबुक पर लाया जाय।

    जवाब देंहटाएं
  16. सर्फ़िंग की आदत के चलते जैसे ये बच्चे हैं हम भी वैसे ही बुढ्ढे नही हो गये हैं क्या?:)

    रामराम

    जवाब देंहटाएं
  17. लगता है अम्मा का अकाउंट भी है :))

    जवाब देंहटाएं
  18. बढि़या व्‍यंग्‍य किया है आपने। अरविन्‍द जी की टिप्‍पणी से सहमत हूँ कि आजकल के बच्‍चे घर घुसवा हो गये हैं। मैनें भी अपना फेसबुक एकाउन्‍ट लोगों के कहने पर बनाया, पर ज्‍यादा वक्‍त ब्‍लॉग पर ही रहता हूँ। एक दिन यह देखकर हैरान रह गया कि मेरे साले ने, जो कि कक्षा 8 का छात्र है, मुझे फेसबुक पर फ्रेण्‍ड रिक्‍वेस्‍ट भेजी। जो उम्र बच्‍चों को अपने कैरियर की नींव रखने की होती है, उसमें वे फेसबुक पढ़ रहे हैं। वैसे फेसबुक के बढ़ते दबदबे पर मैनें एक कविता भी लिखी है। मेरे ब्‍लॉग पर 'कविता' वाले टैब पर जाकर पढ़ सकते हैं।

    जवाब देंहटाएं
  19. यह तो बढ़िया है, अब बाहर जायें भी कहां, न पार्क बचे, न खुले मैदान.

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin