शनिवार, 11 फ़रवरी 2012

कार्टून:- एक सीधा-सादा कार्टून ☺


28 टिप्‍पणियां:

  1. अरे काजल कुमार! क्यो बिचारे शांत और निरुपद्रवी प्राणी को ईन दुष्टो का बाप बनाते हो?

    जवाब देंहटाएं
  2. नेता वोटरों को गधा बनाकर बाप बनाते हैं और फिर उल्लू सीधा करते हैं। कितने पशुप्रेमी हैं नेता।

    जवाब देंहटाएं
  3. समय पर पिताजी बना ही लेते हैं.... : )

    जवाब देंहटाएं
  4. अब तक सुनते थे ये मुहावरा, आज देख लिया!!

    जवाब देंहटाएं
  5. आज तक सुनते आये थे की गरज में गधे को..... आज आपने दिखा दिया बहुत सुधा सादा लेकिन मजेदार .....

    जवाब देंहटाएं
  6. धांसू
    सरजी,,.....उघाड दिया ....

    जवाब देंहटाएं
  7. शुक्र है यहाँ गब्बर नहीं था ।

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
    लिंक आपका है यहीं, कोई नहीं प्रपंच।।
    --
    आपकी इस कार्टून की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर की जाएगी!
    सूचनार्थ!

    जवाब देंहटाएं
  9. वक्त वक्त की बात है, बाकी समय तो यही बनाते हैं वोटर को..

    जवाब देंहटाएं
  10. इनको वोट का अधिकार मिल गया है! अब क्रांति होगी झकाझक!

    जवाब देंहटाएं
  11. हाहा...वोट के लिए ये किसके हाथ ना जोड़ें..:)

    जवाब देंहटाएं
  12. Congress 'll continue begging for votes...can quite see Muslims braying...lol...

    जवाब देंहटाएं
  13. नहीं काजल जी आपका यह कार्टून मतदाता का अपमान कर रहा है। आपको इस पर विचार करना चाहिए।

    जवाब देंहटाएं
  14. क्या बात हैं काजल जी ...ऐसे ही सच सामने लाते रहोगे क्या ?

    जवाब देंहटाएं
  15. मतदाता का अपमान है इस कार्टून में. विचार कीजिएगा. इसमें संशोधन होना चाहिए.

    जवाब देंहटाएं
  16. हमको गधा समझता है ससुरा,बिलकुल वोट नहीं देंगे,कतई वोट नहीं देंगे

    जवाब देंहटाएं
  17. हमको गधा समझता है ससुरा,बिलकुल वोट नहीं देंगे,कतई वोट नहीं देंगे

    जवाब देंहटाएं
  18. गधे को बाप बनाने की कहावत ऐसे चुनावी माहौल को ध्यान में रख कर ही बनायीं गयी होगी.

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin