Tuesday, August 24, 2010

कार्टून:- मैं और मेरा मच्छर दोनों अक्सर ये बातें करते हैं...

26 comments:

  1. अ...अअअ...आप दोनों को कामनवेल्थ गेम्स की अग्रिम शुभकामनायें :)

    ReplyDelete
  2. इस दोनों के बाप का नाम कोमनवेल्थ गेम है और मां का नाम भ्रष्टाचार है ....

    ReplyDelete
  3. अच्छी पोल खोली है...रक्षाबन्धन के पावन पर्व की हार्दिक बधाई एवम् शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छे ......

    ReplyDelete
  5. अच्छा तो कामनवेल्थ प्रशिक्षण चल रहा है :)

    ReplyDelete
  6. आपको द्विवेदी वकील साहब से नोटिस भिजवा रहा हूं अगर आपने मुझे रायल्टी नही भिजवाई तो क्योंकि आपने हमारे

    "मैं और मेरी भैंस अक्सर ये बाते करते हैं कि अगर कामनवैल्थ के भ्रष्टाचार में हिस्सा ना मिला तो गोबर करवा देंगें" से प्रेरित होकर यह पोस्ट लिखी है.

    रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  7. @ ताऊ रामपुरिया जी...

    यदि "मैं और मेरी भैंस अक्सर ये बाते करते हैं कि अगर कामनवैल्थ के भ्रष्टाचार में हिस्सा ना मिला तो गोबर करवा देंगें" नाम की कोई पोस्ट पहले से ही विद्यमान है तो यह morphic resonance के अतिरिक्त कुछ नहीं हो सकता :-)) ठीक उसी तरह जैसे अमरीका व यूरोप में दो अलग-अलग आदमी, एक ही समय, तार से संदेश भेजने के अविष्कार में जुटे थे.

    ऐसा ही कुछ उस समय हुआ जब "गूदड़ी के लाल की गुदगुदी..." कार्टून होस्ट करने के कुछ दिन बाद मैंने दिल्ली सरकार के एक नेता को टी.वी. कैमरे पर कहते सुना कि मच्छरों की नसबंदी करनी चाहिये, मैंने उसे माफ़ कर दिया. कोई नोटिस नहीं भिजवाया. आप भी मुझे क्षमा कर ही दीजिये (देखी जाएगी)---:)

    ReplyDelete
  8. @ काजल कुमार जी

    आपकी morphic resonance की दलील मंजूर कीजाती है. पर वो भ्रष्टाचार मे हिस्सा तो दिलाना ही पडेगा.:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  9. अच्छा लगा हा हा ......बधाई

    ReplyDelete
  10. Hansee bhi aati hai aur dukhbhi hota hai!

    ReplyDelete
  11. आप को राखी की बधाई और शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  12. बहुत धमकवाते हो जी आप।
    ताऊ के साथ डील फ़ाईनल हो गई?

    ReplyDelete
  13. रक्षाबंधन पर हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें!
    बहुत बढ़िया ! शानदार !

    ReplyDelete
  14. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    :: हंसना स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है।

    ReplyDelete
  15. अच्छा तो आपने मच्छर पाल रखे हैं ।
    अब आप वकील साहब से भले ही बच जाएँ , पर एम् सी डी के मलेरिया विभाग से नहीं बच पाएंगे ।

    ReplyDelete
  16. बहुत खूब काजल जी

    ReplyDelete

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin