Thursday, February 3, 2011

कार्टून:- शुक्र मनाओ कि पट्टे पैर में डाले हैं मुन्ना...


25 comments:

  1. हा हा हा हा हा अ हा हा ....
    मेरे गले में पट्टा नहीं देखते..!
    बहुत खूब, काजल सर. बहुत खूब!
    सटीक चित्रण.

    ReplyDelete
  2. nice...........................................................................................................................................nice.................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................nice

    ReplyDelete
  3. मेरा दर्द ना जाने कोय |
    मै तो कहती हूँ की हम आम लोगों को भी इस अमेरिकी पट्टे को अपने सांसदों और विधायको के गले में बांध देना चाहिए ताकि वोट लेने के बाद वो गायब ना हो जाये |

    ReplyDelete
  4. बेचारा पट्टे वाला

    ReplyDelete
  5. हा...हा...हा...बहुत ही तीखा कटाक्ष

    ReplyDelete
  6. पट्टे की जगह बदली के हिसाब से वो कैदी तो ये पालतू '...' हुए !

    कार्टून तो अदभुत है काजल भाई पर दो रिस्क भी हैं ...

    एक तो ये कि इस बिना पर ब्लागर बंधु आपको खांटी कम्युनिस्ट ना मान लें :)

    और दूसरा ये कि आपके ख्याल को खारिज करने के ख्याल से मन्नू भैय्या को जीवन दान ना मिल जाए :)


    टिप्पणी डिस्क्लेमर : टिप्पणी में उद्धृत एक भी पट्टा देसी नहीं माना गया है !

    ReplyDelete
  7. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार ०५.०२.२०११ को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.uchcharan.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब!

    ReplyDelete
  9. काजल कुमार जी आपका जवाब नहीं...
    तुस्सी ग्रेट हो...

    ReplyDelete
  10. .

    एक 'सांकेतिक कहानी है "पट्टासिंह का पट्टा" उसका मुझे आपने चित्र मुहय्या करा दिया. आभार.
    लिंक है : http://raamkahaani.blogspot.com/2010/11/blog-post.html

    मैं तो उस कहानी को पूरा करना ही भूल गया था. आपके पट्टेदार कार्टून ने याद करा दिया. पुनः आभार.

    .

    ReplyDelete
  11. तीखा कटाक्ष.....
    बहुत खूब!

    ReplyDelete
  12. हमारा एक छोटा सा प्रयास है इन्टरनेट पर उपलब्ध हास्य व्यंग लेखो को एक साथ एक जगह पर उपलब्ध करवाने का,

    सभी इच्छुक ब्लोगर्स आमंत्रित है


    हास्य व्यंग ब्लॉगर्स असोसिएशन सदस्य बने

    ReplyDelete
  13. बहुत सटीक हुजूर तो गये काम से.:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  14. बेहतरीन कटाक्ष !

    ReplyDelete
  15. बेचारे मुन्ना की बेचारगी ....

    ReplyDelete
  16. काजल साहेब,

    एक और पत्ता पड़ा है "मन" मोहन के गले में...
    उसकी डोर तो "मैडम" के हाथों में है..

    बहुत सुन्दर कार्टून.

    ReplyDelete
  17. सिंहनाद से आर्तनाद तक - एक चुके हुए प्रधान की आत्मकथा

    ReplyDelete

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin