शनिवार, 11 सितंबर 2010

कार्टून:- चन्दू, मैंने सपना देखा, कल परसों ही छूट रहे हो ...(नागार्जुन जी से क्षमाप्रार्थना)


20 टिप्‍पणियां:

  1. अरे यहाँ टिपण्णी के लिए गुंजाईश तो है. फिर अरविन्द जी ने क्यों कहा की टिपण्णी बंद कर दी है. मनमोहन जी पर तरस आता है.

    जवाब देंहटाएं
  2. :)
    क्या आज तक कोई व्यंग कार्टून ऐसा रहा है जिस पर टिप्पणियाँ बंद हो जायं ?
    य७अह तो खुद में एक बड़ा व्यंग होगा !

    जवाब देंहटाएं
  3. अजी जिगर चाहिये उस जेसा बिहेव करने के लिये....रोजाना मक्की की रोटी सरसॊ के सांग मे देसी ओर (असली) घी डाल कर खाया करो कुछ हिम्मत सिम्मत आये,
    बहुत सुंदर जी

    जवाब देंहटाएं
  4. हा हा हा

    बड़े न समझ हैं .......ये क्या चाहते हैं ?

    जवाब देंहटाएं
  5. आपको एवं आपके परिवार को गणेश चतुर्थी की शुभकामनायें ! भगवान श्री गणेश आपको एवं आपके परिवार को सुख-स्मृद्धि प्रदान करें !
    बहुत सुन्दर !

    जवाब देंहटाएं
  6. ये तो आंख से आंख मिलाकर बात कर रहे हैं, हजम नहीं हुआ जी आज कुछ।

    जवाब देंहटाएं
  7. करारा व्यंग्य काजल जी, काश कि यह व्यंग्य कुच बेशर्मो तक भी पहुच पाता !

    जवाब देंहटाएं
  8. सपने भी कैसे कैसे होते हैं खुदा...रा !

    :)

    जवाब देंहटाएं
  9. ये जब तक पूछ रहे हैं तब तक ही प्रधानमंत्री हैं जिस दिन नहीं पूछेंगे उसी दिन खलास।

    जवाब देंहटाएं
  10. आज तो कमाल कर दिया काजल भाई,
    साथ ही अली भाई की टिप्पणी ने चौदह चांद लगा दिए।

    संडे का फ़ंडा-गोल गोल अंडा

    ब्लॉग4वार्ता पर पधारें-स्वागत है।

    जवाब देंहटाएं
  11. लगता है आज कुछ जोशीली मुद्रा में हैं?:)

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  12. हाँ जी सच कहा मो सम कौन जी ने... अभी सपाटा खाना है क्या बे? आँखों में आँखें डाल के बात कर रहा है मैडम से..

    जवाब देंहटाएं
  13. बहुत ही कार्टून सुन्दर है.

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin