शनिवार, 30 जून 2012

कार्टून:- पैचान कौन ...


25 टिप्‍पणियां:

  1. बाएँ से पहला असली है जो चलते हुए भी हाथ नहीं हिला रहा :))
    बढ़िया है काजल जी.

    जवाब देंहटाएं
  2. हम से पहले कोई कमेण्ट कर जायें तो उसका नफ़ा है कि ज्यादा दिमाग नहीं लगाना पड़ता। भारत भूषण जी जिन्दाबाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया पांडे जी, पांडे जी ज़िंदाबाद....

      हटाएं
  3. बहुत सुन्दर कार्टून!
    --
    इस कार्टून प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (01-07-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    जवाब देंहटाएं
  4. हा हा हा हा ....बहुत कैन्फुजन हैं भाई ...

    जवाब देंहटाएं
  5. काजल कुमार जी ,राजनीति में अब सारे क्लोन ही रह गए ये अपने राष्ट्रीय रोबोट अनर्थ -शास्त्री तो रोबोट से भी आगे की चीज़ हैं रोबोट तो हाथ हिलातें हैं ये बे -चारे 'हाथ' की ओर निहारतें हैं 'मम्मी जी' के .काजल कुमारजी इंटर नेट बर्न आउट से बचने का सबको अपना अपना उपाय निकालना पड़ेगा यहाँ यू एस में ऑफिस सीट को आप ऊंचा नीचा मन माफिक कर सकतें हैं लैप टॉप की हाईट के अनुरूप .
    हमने तो लिखना ही खड़े होके शुरु कर दिया था मुंबई में ही .एक तो स्पीड हिन्दुस्तान में माशाल्लाह इतने में आप टहलते रहो स्ट्रेचिंग कर लो .नैप लेना तो बहुत ही कारगर उपाय है .बस दो मिनिट के लिए आँख बंद करके ध्यान लगाओ मेडितैत करो .खासा सुकून मिलेगा .हर घंटा दो के बाद इसे कर लो .पोश्चर बदल लो .ज्यादातर समस्याएं पोश्चारल ही हैं .

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. इंटर नेट बर्न आउट...

      सही कहा आपने, इस ओर ध्‍यान देने की ज़रूरत है

      हटाएं
  6. Italian vamp has created several puppets. All are alike. Replica of each other. Pranab is going to be another puppet like Manmohan.

    जवाब देंहटाएं
  7. पैचान तो लिया है,लेकिन बताऊं कोनी,,,,,,,,

    बहुत अच्छी प्रस्तुति,,,

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: बहुत बहुत आभार ,,

    जवाब देंहटाएं
  8. हम तो फिलहाल अपने को ही पहचानने में लगे हैं....!

    जवाब देंहटाएं
  9. इतना बारीक तो हम भी नहीं देख सकते हैं..

    जवाब देंहटाएं
  10. kaartuun mast hain -

    पंज -प्यारो के चित्र पर, करते हो खिलवाड़ |
    मैया हो जाये खपा, बहुत पड़ेगी झाड़ |
    बहुत पड़ेगी झाड़, देखिये पहला लालू |
    ममता को भटकाय, मुलायम दूजा चालू |
    तीजा वोही बंग , दाहिने लुंगी वाला |
    पी एम् पीछे हाथ, छुपाता मन का काला ||

    जवाब देंहटाएं
  11. वाह: बहुत सुन्दर..लाजवाब

    जवाब देंहटाएं
  12. वो तो सब ठीक है पर बंदे की राहों में फूल बिखेरने का मतलब ?

    जवाब देंहटाएं
  13. असली कुछ बचा हो तब तो पहचाना जाए न . वो तो बोलेगा भी नहीं ........आभार
    भ्रमर ५
    भ्रमर का दर्द और दर्पण

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin