Friday, June 15, 2012

कार्टून :- कोरबो, लोरबो, गि‍रबो...


23 comments:

  1. उम्दा व्यंग्य चित्र, एक पूर्णिमा को महाकाव्य रचा गया रामगढ में, मिलिए सुतनुका देवदासी और देवदीन रुपदक्ष से।

    ReplyDelete
  2. पूरी सहानुभूति ममता जी के साथ ..मुझे बहुत खराब लगा रहा है ममता जी का इस तरह हार जाना !
    मुझे तो जनाब प्रणब मुखर्जी राष्ट्रपति के उम्मेदवार के रूप में भी कभी सही नहीं लगे. उनकी की खाली की गयी कुर्सी किसे मिलेगी??मुलायम सिंह को??

    ReplyDelete
  3. चलिए पी एम न सही , राष्ट्रपति ही सही --कुछ तो मिला .

    ReplyDelete
  4. मुलायम मुलायम पड़ गए , ममता क्या करतीं ? :):) बढ़िया व्यंग

    ReplyDelete
  5. यहाँ जब भी आओ ..एक विज्ञापन कार्टून के आगे आकर खड़ा हो जाता है ....उसे ध्यान में रखकर,आज का कार्टून देखकर एक शब्द और याद आ गया---"मरबो"

    ReplyDelete
  6. वे एक क्षेत्र से बाहर का नहीं सोचतीं , रेल्वे में सारे देश के हक़ छीन कर उन्होंने अपने क्षेत्र को सौंप दिये , केवल इसलिए कि स्थानीय क्षत्रप बन सकें ! मामला अभी भी राष्ट्रपति पद का नहीं था सारे देश के रिसोर्सेस , सारे देश को भाड़ में झोंक कर , अपने क्षेत्र में ठेलने की ब्लेकमेलिंग मात्र थी ! दूसरे नेता भी ऐसा करते हैं पर इतनी बेदर्दी और बेशर्मी से नहीं !

    वे घनघोर अविश्वसनीय हैं ! ना तो कांग्रेस की हुईं ना एन.डी.ए. की और ना ही यू.पी.ए.की ! अपने रेल्वे मिनिस्टर को किस बात की सजा दी थी उन्होंने , सिर्फ इसलिए कि वह पूरे देश की सोचने लगा था फेयर होने की कोशिश कर रहा था :)

    ReplyDelete
  7. बढ़िया कार्टून काजल भाई ! बे आवाज लाठी जैसा :)

    ReplyDelete
  8. क्या कीजिएगा राजनीति के इन मदारी मदारिनों का ,एक तो सारे देश को नचाये हैं .इत्ते सारे राष्ट्र पति कवर नहीं कर सकता कोई एक फाइनल नेम बताइये .ई लोकतंत्र वा है भैया इहाँ इत्ते ही नाम हुइबे करे .दोनों प्रस्तुति बढ़िया काजल भाई .

    ReplyDelete
  9. और फिर राष्ट्र पति के बीच अधर में ही बदले जाने का भी ख़तरा नहीं रहता है .प्रणब मुखर्जी की निष्ठाओं का यह आजीवन इनाम है .

    ReplyDelete
  10. क्या कीजिएगा राजनीति के इन मदारी मदारिनों का ,एक तो सारे देश को नचाये हैं .इत्ते सारे राष्ट्र पति कवर नहीं कर सकता कोई एक फाइनल नेम बताइये .ई लोकतंत्र वा है भैया इहाँ इत्ते ही नाम हुइबे करे .दोनों प्रस्तुति बढ़िया काजल भाई .

    ReplyDelete
  11. ममता मुलायम के अवसरवाद को समझने में चुक गई |

    ReplyDelete
  12. मुझे लग रहा था कि ममता पटकी लगाएँगी लेकिन मुलायम पटकी लगा गए. बढ़िया कार्टून.

    ReplyDelete
  13. बिलकुल ठीक है. कभी कभी ऐसा भी हो जाता है.

    ReplyDelete
  14. ममता जी को गठबंधन धरम का पालन करना चाहिए,,,,,
    समर्थक बन गया हूँ आप भी बने तो मुझे खुशी होगी,,,,,,

    RECENT POST ,,,,,पर याद छोड़ जायेगें,,,,,

    ReplyDelete
  15. आज भी निर्ममता से अपनी जिद पे कायम हैं ममता .इस हाथ दे उस हाथ ले .बार -टर सिस्टम में यकीन करतीं हैं निर्मम हो कर ममता जी .वो क्या है कि सावन के अंधे को हरा ही हरा (आर्थिक पैकेज )ही नजर आता है .एक बात और केंद्र के झमुरे को नचाने वाली इस दौर में एक से ज्यादा नेत्रियाँ हो गईं हैं .

    ReplyDelete
  16. वाह...बहुत खूब..शानदार...

    ReplyDelete
  17. वाह ... बहुत खूब ।

    कल 20/06/2012 को आपकी इस पोस्‍ट को नयी पुरानी हलचल पर लिंक किया जा रहा हैं.

    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!


    बहुत मुश्किल सा दौर है ये

    ReplyDelete
  18. राजनीतिक उठा-पटक ज़ारी है ...

    ReplyDelete
  19. दुखती रग पर काहे हाथ लगाते हैं आप? :)

    रामराम.

    ReplyDelete

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin