शुक्रवार, 15 जून 2012

कार्टून :- कोरबो, लोरबो, गि‍रबो...


23 टिप्‍पणियां:

  1. उम्दा व्यंग्य चित्र, एक पूर्णिमा को महाकाव्य रचा गया रामगढ में, मिलिए सुतनुका देवदासी और देवदीन रुपदक्ष से।

    जवाब देंहटाएं
  2. पूरी सहानुभूति ममता जी के साथ ..मुझे बहुत खराब लगा रहा है ममता जी का इस तरह हार जाना !
    मुझे तो जनाब प्रणब मुखर्जी राष्ट्रपति के उम्मेदवार के रूप में भी कभी सही नहीं लगे. उनकी की खाली की गयी कुर्सी किसे मिलेगी??मुलायम सिंह को??

    जवाब देंहटाएं
  3. चलिए पी एम न सही , राष्ट्रपति ही सही --कुछ तो मिला .

    जवाब देंहटाएं
  4. मुलायम मुलायम पड़ गए , ममता क्या करतीं ? :):) बढ़िया व्यंग

    जवाब देंहटाएं
  5. यहाँ जब भी आओ ..एक विज्ञापन कार्टून के आगे आकर खड़ा हो जाता है ....उसे ध्यान में रखकर,आज का कार्टून देखकर एक शब्द और याद आ गया---"मरबो"

    जवाब देंहटाएं
  6. वे एक क्षेत्र से बाहर का नहीं सोचतीं , रेल्वे में सारे देश के हक़ छीन कर उन्होंने अपने क्षेत्र को सौंप दिये , केवल इसलिए कि स्थानीय क्षत्रप बन सकें ! मामला अभी भी राष्ट्रपति पद का नहीं था सारे देश के रिसोर्सेस , सारे देश को भाड़ में झोंक कर , अपने क्षेत्र में ठेलने की ब्लेकमेलिंग मात्र थी ! दूसरे नेता भी ऐसा करते हैं पर इतनी बेदर्दी और बेशर्मी से नहीं !

    वे घनघोर अविश्वसनीय हैं ! ना तो कांग्रेस की हुईं ना एन.डी.ए. की और ना ही यू.पी.ए.की ! अपने रेल्वे मिनिस्टर को किस बात की सजा दी थी उन्होंने , सिर्फ इसलिए कि वह पूरे देश की सोचने लगा था फेयर होने की कोशिश कर रहा था :)

    जवाब देंहटाएं
  7. बढ़िया कार्टून काजल भाई ! बे आवाज लाठी जैसा :)

    जवाब देंहटाएं
  8. क्या कीजिएगा राजनीति के इन मदारी मदारिनों का ,एक तो सारे देश को नचाये हैं .इत्ते सारे राष्ट्र पति कवर नहीं कर सकता कोई एक फाइनल नेम बताइये .ई लोकतंत्र वा है भैया इहाँ इत्ते ही नाम हुइबे करे .दोनों प्रस्तुति बढ़िया काजल भाई .

    जवाब देंहटाएं
  9. और फिर राष्ट्र पति के बीच अधर में ही बदले जाने का भी ख़तरा नहीं रहता है .प्रणब मुखर्जी की निष्ठाओं का यह आजीवन इनाम है .

    जवाब देंहटाएं
  10. क्या कीजिएगा राजनीति के इन मदारी मदारिनों का ,एक तो सारे देश को नचाये हैं .इत्ते सारे राष्ट्र पति कवर नहीं कर सकता कोई एक फाइनल नेम बताइये .ई लोकतंत्र वा है भैया इहाँ इत्ते ही नाम हुइबे करे .दोनों प्रस्तुति बढ़िया काजल भाई .

    जवाब देंहटाएं
  11. ममता मुलायम के अवसरवाद को समझने में चुक गई |

    जवाब देंहटाएं
  12. मुझे लग रहा था कि ममता पटकी लगाएँगी लेकिन मुलायम पटकी लगा गए. बढ़िया कार्टून.

    जवाब देंहटाएं
  13. बिलकुल ठीक है. कभी कभी ऐसा भी हो जाता है.

    जवाब देंहटाएं
  14. ममता जी को गठबंधन धरम का पालन करना चाहिए,,,,,
    समर्थक बन गया हूँ आप भी बने तो मुझे खुशी होगी,,,,,,

    RECENT POST ,,,,,पर याद छोड़ जायेगें,,,,,

    जवाब देंहटाएं
  15. आज भी निर्ममता से अपनी जिद पे कायम हैं ममता .इस हाथ दे उस हाथ ले .बार -टर सिस्टम में यकीन करतीं हैं निर्मम हो कर ममता जी .वो क्या है कि सावन के अंधे को हरा ही हरा (आर्थिक पैकेज )ही नजर आता है .एक बात और केंद्र के झमुरे को नचाने वाली इस दौर में एक से ज्यादा नेत्रियाँ हो गईं हैं .

    जवाब देंहटाएं
  16. वाह ... बहुत खूब ।

    कल 20/06/2012 को आपकी इस पोस्‍ट को नयी पुरानी हलचल पर लिंक किया जा रहा हैं.

    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!


    बहुत मुश्किल सा दौर है ये

    जवाब देंहटाएं
  17. राजनीतिक उठा-पटक ज़ारी है ...

    जवाब देंहटाएं
  18. दुखती रग पर काहे हाथ लगाते हैं आप? :)

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Blog Widget by LinkWithin